ग्रेड बी+ से सिर्फ बी रह गया बांगड़ कॉलेज|| पश्चिम राजस्थान के पिछड़ने के कई कारणों मे से एक कारण ये भी||

Posted on 03/03/2016

UGC-logo

पाली

जिले के सबसे बड़े सरकारी कॉलेज बांगड़ स्नातकोत्तर महाविद्यालय की ग्रेड बी प्लस से घटकर सिर्फ बी रह गई है। राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (नैक) टीम की रिपोर्ट के आधार पर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने कॉलेज को बी ग्रेड की ही मान्यता दी है। इससे पहले बांगड़ बी प्लस ग्रेड का महाविद्यालय था। 29-02-2016 सोमवार को यूजीसी की ओर से बांगड़ कॉलेज को बी ग्रेड का प्रमाण पत्र भेजा गया है। नैक टीम को कॉलेज का स्तर ए ग्रेड के अनुसार नजर नहीं आया। इसका असर कॉलेज के विकास पर पड़ेगा। गत वर्ष  3 दिसम्बर से बांगड़ कॉलेज को ए ग्रेड की मान्यता देने संबंधी मानकों की जांच करने के लिए नैक के तीन सदस्यों ने तीन दिनों तक कॉलेज का निरीक्षण किया था।

बी + हटाने का असर : पर्याप्त बजट नहीं मिल सकेगा

 अगर कॉलेज को ए ग्रेड मिलता तो कॉलेज की शैक्षणित व्यावस्था का आंकलन भी ए ग्रेड के अनुसार किया जाता। विकास के लिए भेजे जाने वाले  प्रस्तावों को प्रभावी बजट मिल जाता। इसी तरह मानव संसाधन मंत्रालय के निर्देशों के अनुसार ए ग्रेड वाले एेसे महाविद्यालय जहां तीन हजार से अधिक विद्यार्थी हैं वहां विश्वविद्यालय की मान्यता के लिए प्रयास किए जा सकते हैं।

उधर, अभी सिरोही कॉलेज है ए ग्रेड

सिरोही कॉलेज को यूजीसी की ओर से ए ग्रेड की मान्यता दी जा चुकी है। शिवगंज कॉलेज को बी प्लस, जालोर को बी, आबूरोड-भीनमाल को सी प्लस की ग्रेड है।

कब मिलता हे ए ग्रेड : हर बिंदु में खरे तभी मिलती है ए ग्रेड

यूजीसी की ओर से किसी कॉलेज को ए ग्रेड मिलना सम्मान की बात होती है। इस ग्रेड के कॉलेज की शिक्षण व्यवस्था व स्तर की पहचान होती है। विद्यार्थियों में भी कॉलेज में प्रवेश को लेकर होड़ रहती है। ए ग्रेड देने के लिए कॉलेज का निरीक्षण करने वाली नैक की टीम कॉलेज की हर सुविधाओ सेवाओं के स्तर का आंकलन कर अंक देती है। जिन कॉलेज को पूरे अंक मिलते हैं उन्हें ही ए ग्रेड मिलती है। नैक की टीम कॉलेज में निरीक्षण के दौरान कॉलेज में व्याख्याताओं की संख्या, व्याख्याताओं द्वारा किए शोध, व्याख्याताओं ने कितनी कॉफ्रेंस करवाई, सभी समितियों का गठन, पूर्व छात्र परिषद व उनके कार्य, कॉलेज की शिक्षण व्यवस्था, विद्यार्थियों को शैक्षिक स्तर, कॉलेज में विभिन्न सुविधाएं सहित कई बिंदुओं का आंकलन कर कॉलेज को अंक देती है।

 

Leave a Reply