NLUs के तर्ज पर जेनवियू, जोधपुर मे फाइव ईयर लॉ कोर्स||

Posted on 10/02/2016

jnvuimages

NLUs के तर्ज पर फाइव एअर लॉ कोर्स JNVU, Jodhpur मे|

नॅशनल लॉ यूनिवर्सिटीस को देखते हुए जय नारायन व्यास विश्वविद्यालय, जोधपुर ने अपने लॉ फॅकल्टी मे भी 2010 मे B.A. LL.B एवं BB.A. LL.B फाइव ईयर लॉ कोर्स प्रारंभ किया|

फीस और प्रवेश

जेनवियू मे फाइव ईयर लॉ कौसे की फीस 40000rs रखी हे जोकि जेनवियू मे चल रहे सब कोर्सस से ज़्यादा हे. ओर अड्मिशन पर्सेंटेज के आधार पर लिया जाता हे जिसमे आयु सीमा नही हे| जिसमे 2014 तक तो 60 स्टूडेंट्स का अड्मिशन हर बेच मे होता था ओर 2015 मे इसकी संख्या को बढ़ते हुए 120 स्टूडेंट्स हर बेच मे कर दिया (BA120 + BBA 120 * 40000rs)

** Bar council of India, Part IV, Chapter II
Eligibility for admission Point 5(b)

मान्यता

बार काउन्सिल ऑफ इंडिया ने जेनवियू को 2010 मे सिर्फ़ बी ए एल एल बी की मान्यता कुछ वषो तक ही दी ओर फाइव ईयर लॉ की बुनियादी आवश्यकता ओर मापदंडो को पूरा करने की बात कही| परंतु जेनवियू ने नकेवल बुनियादी आवश्यकता ओर मापदंडो को दरकिनार किया बल्कि BB.A.LL.B की मान्यता नही होते हुआ भी उसको B.A.LL.B के साथ 2010 मे ही प्रारम्भ कर दिया गया|

Bar council of India, Part IV, chapter III
14. Centres for Legal Education not to impart education without approval of Bar Council of India
26. Approval
(a) Temporary approval
(b) Regular approval
27. Revocation of approval

बार काउन्सिल ऑफ इंडिया

फाइव ईयर लॉ की मान्यता के लिए जब जेनवियू ने बार काउन्सिल इंडिया से बात की थी तब काउन्सिल ने अपने कॉन्स्टिट्यूशन के हिसाब से चलने को कहा ओर नही चलने पर मान्यता को रद्ध करने की बात भी कही उसके बावजूद  जेनवियू ने सारी बातो को दरकिनार करते हुआ फाइव ईयर लॉ मे अड्मिशन चालू रखे| ओर जब काउन्सिल की तरफ से दिया गया टाइम समाप्ति पर था तो जेनवियू ने कुछ समय की मोहलत ओर माँग ली जो की निराधार थी|

इसी के चलते 2015 के जनवरी मे काउन्सिल की टीम अचानक जेनवियू मे फाइव ईयर लॉ की मापदंडो को देखने आ गई ओर सुविधाओ के अभाव को देखते हुआ मान्यता को फिर से आगे बढ़ाने से माना कर दिया जबकि कुछ ही महीनो बाद फाइव ईयर लॉ का पहला बेच निकलने वाला था|

मापदंड जिनमे लापरवाही बरती गई

बार काउन्सिल ऑफ इंडिया, पार्ट IV, चॅप्टर II

  1. Process and manner of running integrated course
    11. Minimum infrastructure

    ओर मूलभूत सुविधाओ मे जेसे Library, new edition books, e-library, computer leb, classroom, furniture, fans, common-room, conference hall, sanitation, toilet, girls-toilet सब समिल हे ओर 5 साल के लंबे अंतराल मे भी आज तक इनमे सुधार नही देखा गया हे

छात्रो का बिगड़ता भविष्या

फाइव ईयर लॉ कोर्स पूरा इंग्लीश मीडियम मे हे लेकिन कई सब्जेक्ट टीचर हिन्दी मीडियम के हे जिनको खुद को पढ़ाने मे कई बार प्राब्लम आती हे जेनवियू मे फाइव एअर लॉ मे जो सेमेस्टर सिस्टम एग्ज़ॅम हे वो हर सेमेस्टर मे एक से डेढ़ माह पीछे चल रहा हे| हर सेमेस्टर मे 1-2 माह देरी से एग्ज़ॅम, 2-3 माह देरी से रिज़ल्ट ओर लगातार अगला सेशन चालू |जिसे की फाइव एअर कोर्स 5 साल मे लगभग पूरे 1 साल का अंतर आ जाएगा तो जो फाइव एअर प्लान हे वो अपने आप ही 6साल मे बदल जा रहा हे| जिससे पीड़ित हे स्टूडेंट्स|[Bar council of India Part IV ch. II point 10. Semester system]

यदि बात को समजा जाए तो 40000 देकर भी 6साल मे बी ए ओर एल एल बी हो रही हे ओर अलग बी ए जोकी 3000-4000 ओर एल एल बी जोकि 10000 मे हो रही हे जिसमे स्टूडेंट्स को पेसे से ओर समय जिसकी की कीमत नही उससे धोया जा रहा हे|

ओर यदि NLU के फाइव एअर लॉ को मद्देनज़र रखा जाए तो वाहा बहुत सी एसी शैक्षणिक गतिविधियों होती हे जो स्टूडेंट्स के फ्यूचर को निखार ने मे सक्षम हे जेसे:- Moot-court, Debate, Parliamentary debate, paper presentation, conferences, research paper or  इंटेर्नशिप के लिए लगभग 1 महीने का हर एग्ज़ॅम के बाद अवकास ताकि व्यावहारिक ज्ञान भी आर्जित किया जा सके|

**तो क्या यह कहना उचित होगा की जेनवियू अपनी ग़लतियो को ना सुधार कर लॉ प्रॉफेशनल कोर्स स्टूडेंट्स के भविष्या के साथ खिलवाड़ कर रहा हे?????

4 Comments

Leave a Reply