अमेरिका की इमीग्रेशन रोक का असर भारत व् राजस्थान के लोगो पर

Posted on 19/02/2017

donald-trump-melania

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव में ” अमेरिका फर्स्ट ”  को टेग लाइन के रूप में खूब इस्तेमाल किया गया | इसका परिणाम ये रहा ही विवादित डोनाल्ड ट्रम्प आज वह के राष्ट्रपति है | उनके राष्ट्रपति बनने के बाद वहा की जनता है उसके खिलाफ सड़को पर आ गयी | इतना  भारी विरोध अमेरिका के इस्तिहास में किसी राष्ट्रपति का नहीं हुआ | आज जब ट्रम्प सरकार ने इमीग्रेशन वीसा कैंसिल किये तो  वहा की जनता उनके पक्ष में गयी| उनकी लोगप्रियता में १०-१२ फीसदी का  बढ़ावा मिला  |

पूरी दुनिया को रोजगार देने के लिए मशहूर अमेरिका आज अपने ही लोगो को बेरोजगारी से लड़ते देख रहा है | यूरोपियन यूनियन भी आर्थिक तंगी झेल रहे अन्य यूरोपियों देशो के इमीग्रेशन से परेशान है | ब्रिटैन में आज कोई भी  यूरोपेन नागरिक वहा की कौंसिल में जा कर ये कहता है की उसके पास खुद के लिए घर नहीं है तो यूरोपियन संधि के कारण उसको हर माह ५०० पौंड औऱ रहने के लिए घर दिया जाता है | अगर बच्चे हो तो उनका भी पढ़ने औऱ रहने का भुकतान किया जाता है | इस बात से ब्रिटैन  औऱ अन्य समृद्ध यूरोपियन देशो  के नागरिक बहुत नाराज रहते है | जितना पैसे  वो मेहनत कर के कमाते है एक संधि एक कारण उनको उन लोगो को देना होता है जो कुछ काम  नहीं करते या करना नहीं चाहते है | इससे परिणाम स्वरूप  ब्रिटैन जैसे देशो का ग्रोथ रेट कम होती  जा रहा है | अमेरिका के अपने लोगो को प्राथमिकता के सिद्धान्त को ब्रिटैन जैसे देशो का भी साथ मिल रहा है | इस निर्णय से ब्रिटेन ओर अन्य यूरोपियन देशो से भी उनको सहयोग मिला | आज पूरा विश्व आपने घर को बचाने में एक साथ स्वर मिला रहा है |

H1B  वीसा सबसे ज्यादा भारतीयों को मिल रखे है | अमेरिका अगर इसी नीति पर चला औऱ जैसा की होता आया है, अन्य देश अमेरिका का अनुसरण करते है तो भारत जैसे विकासशील देशो के लोगो का रिवर्स माइग्रेशन होगा | जिससे यहाँ बेरोजगहरो की तादात 13.5 % फीसदी  बढ़ेगी  जो की usual  principal status   के हिसाब से  २०१५-१६ में ५ %  है |  गुजरात में  बेरोजगारी सबसे काम है जबकि राजस्थान में बेरोजगारों का आकड़ा सबसे ज्यादा है | राजस्थान के लोग देश विदेश में आज फैले हुए है | अगर रिवर्स माइग्रेशन होता है तो अनुमानित रूप से १ से १.५ करोड़ लोगो को राजस्थान दोबारा आना पड़ेगा अगले 6-7 सालो में | क्या राजस्थान आज अपने ही लोगो को रोजगार दे पायेगा ? आज विश्व अपने घर को बचाने के लिए अन्य प्रवासियों को बहार ढकेल रहा है | वही नीति कई राज्य भारत में भी आपन रहे है | आज हमे राजस्थान में रोजगार उत्पन करने होंगे | यहाँ के नागरिको जो कल आएंगे उनके लिए नए  अवसर बनाने  की आवश्यकता है | अगर पूरा विश्व अपने घर को बचाने चला तो हमे अपनों लिए गूँज करनी होगी | राजनीतिक व् गवर्निंग बॉडी को यहाँ रोजगार उत्पन करने के लिए विवश करना होगा |

राजस्थान को उत्तर प्रदेश औऱ बिहार के लोगो के साथ जैसी हिंसा ना हो उसपर कार्य करने की जरुरत है | दोबारा राजस्थान लोट रहे लोगो  औऱ यहाँ रह रहे प्रवासियों के बिच संघर्ष ना हो उसके लिए नयी संभावनाएं पैदा करनी होगी |

Leave a Reply