Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति पुण्यकाल मुहूर्त, पूजा विधि, मंत्र और महत्व – AapnoJodhpur.com

Posted on 14/01/2020

इस संक्रांति के दिन सूर्य, धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है, इसी वजह से इस संक्रांति को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है। ज्योतिषीय गणनाओं के अनुसार मकर संक्रांति का पर्व इस बार यानी साल 2020 में 14 जनवरी की बजाए 15 जनवरी को मनाना चाहिए। 15 जनवरी से मलमास (खरमास) और अशुभ समय समाप्त हो जाएगा और विवाह, ग्रह प्रवेश आदि शुभ कार्य शुरू हो जाएंगे।

मकर संक्रांति का पर्व सूर्य देव को समर्पित है। मकर संक्रांति में ‘मकर‘ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति‘ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है। मकर संक्रांति के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि (मकर के स्वामी शनि देव हैं) में प्रवेश करते है। एक राशि को छोड़कर दूसरे राशि में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। मकर संक्राति के दिन गंगा स्नानव्रतकथादान और भगवान सूर्यदेव की उपासना करने का विशेष महत्त्व है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Leave a Reply