Jaljhulni Ekadashi 2019: जानिए जलझूलनी (डोल ग्यारस) एकादशी महत्व, व्रतकथा – AapnoJodhpur.com

Posted on 09/09/2019

Jaljhulni Ekadashi, Vaaman Ekadashi

भाद्रपद माह में शुक्ल पक्ष एकादशी को जलझूलनी एकादशीपार्श्व एकादशीवामन एकादशीपद्मा एकादशी, परिवर्तिनी एकादशीडोल ग्यारस आदि कई नामों से जाना जाता है। इस साल जलझूलनी एकादशी का व्रत आज यानी 09 सितंबर को है। मान्यता है स्वर्ग के देवी-देवता भी इस एकादशी का व्रत रखते हैं। यह एकादशी सर्व-सुख , पुण्यमोक्ष को देने वाली तथा सब पापों का नाश करने वाली उत्तम एकादशी है। धार्मिक मान्‍यताओं के अनुसार इस एकादशी के व्रत से वाजपेय यज्ञ जितना पुण्य फल उपासक को मिलता है।

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह के कृष्ण और शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को व्रत, स्नान, दान आदि के लिये बहुत ही शुभ फलदायी माना जाता है। हिन्दू शास्त्रों के अनुसार एकादशी का व्रत-उपवास रखने से भगवान विष्णु के साथ माता लक्ष्‍मी भी भक्तों से प्रसन्न होकर उन पर अपनी कृपा बनाए रखते हैं।

Read More on AapnoJodhpur.com

Leave a Reply