जानिए चातुर्मास और देवशयनी एकादशी व्रत कथा, महत्‍व – AapnoJodhpur.com

Posted on 12/07/2019

Devshayani Ekadashi 2019

भगवान विष्णु को समर्पित आषाढ़ महीने के शुक्लपक्ष की एकादशी, देवशयनी एकादशी 12 जुलाई, शुक्रवार को है। देवशयनी एकादशी को आषाढ़ी एकादशीपद्मा एकादशी और हरि शयनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। देवशयनी एकादशी का हिन्‍दू धर्म में विशेष महत्‍व है। मान्‍यता है कि देवशयनी एकादशी के दिन भगवान विष्‍णु योग निद्रा में चले जाते हैं और फिर चार महीने बाद देवप्रबोधनी एकादशी के दिन उठते हैं।

इस बार देवशयनी एकादशी के दिन 3 दुर्लभ शुभ योग बन रहे हैं – सर्वार्थ सिद्धि शुभ योग, शुक्रवार का दिन (भगवान विष्णु की पत्नी माता लक्ष्मी को समर्पित दिन) और रवि योग है। ऐसे में भगवान विष्णु की आराधनापूजा सवोत्तम फल देने वाली होती है। रवि योग में अशुभ योग के सभी दुष्प्रभाव खत्म हो जाते हैं।

Read More on AapnoJodhpur.com

Leave a Reply