आमलकी एकादशी पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, महत्व और व्रत कथा – AapnoJodhpur.com

Posted on 17/03/2019

Amalaki Ekadashi 2019: फाल्गुन महीने की शुक्ल पक्ष एकादशी को आमलकी एकादशी (Amalaki Ekadashi) के नाम से भी जाना जाता है। आमलकी का अर्थ होता है आंवला। इस दिन भगवान विष्णु और आंवले के वृक्ष की पूजा करने का विधान है। हिंदू पंचांग (Hindu Calendar) के मुताबिक, Amalaki Ekadashi 2019 इस वर्ष 17 मार्च, रविवार के दिन है। आमलकी यानी आंवले को हमारे धर्मग्रंथों में अमृत तुल्य पवित्र फल माना जाता है।

इस व्रत की अत्यधिक महिमा है, इस पर्व पर आंवले के पेड़ (Amla Tree) की पूजा-अर्चना करने की परंपरा है। आमलकी एकादशी के संदर्भ में मान्यता है कि इस दिन विधिवत व्रत एवं पूजा करने से शत्रुओं एवं अन्य विपदाओं पर विजय की प्राप्ति होती है, मनोकामनाएं पूरी होती हैं, आधे-अधूरे कार्य सफलता पूर्वक संपन्नहोते हैं एवं सभी पापों से मुक्ति मिलती हैं। इस व्रत का फल 1000 गायों के दान के मिले पुण्यों के बराबर होता है।

आमलकी (आंवला) एकादशी को रंगभरी एकादशी भी कहते है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, बाबा विश्वनाथ महाशिवरात्रि के दिन मां पार्वती से विवाह रचाने के बाद फाल्गुन शुक्ल एकादशी पर गौना लेकर काशी आए थे। मान्यता है कि इस दिन बाबा विश्वनाथ स्वयं भक्तों के साथ होली खेलते हैं।

Read More on AapnoJodhpur.com

Leave a Reply