Jyeshtha Purnima 2019 Vath Savitri Vrat

Jyeshtha Purnima 2019: वट सावित्री पूर्णिमा व्रत कथा, पूजा विधि और महत्व – AapnoJodhpur.com

16/06/2019 in Development

ज्येष्ठ पूर्णिमा का पर्व हिंदू समाज में खास महत्व रखता है। इस पर्व को ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। इस साल Jyeshtha Purnima 2019 का पर्व 16 जून, रविवार को आ रहा है और स्नान-दान आदि की पूर्णिमा 17 जून को मानी जाएगी। इसे वट सावित्रीपूर्णिमा भी कहा जाता है। ऐसी मान्यता हैं की जो महिला इस व्रत को श्रद्दाभक्ति भाव से पूर्ण करती है उसका सुहाग अमर हो जाता है।

माना जाता है कि ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन से जून महीने में पड़ने वाली प्रचंड गर्मी का आखिरी दौर रहता है। इस शुभ दिन बारिश के लिए पूजा और हवन कर इंद्र देवको प्रसन्न करते हैं। ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन जल का दान भी किया जाता है और किसानों के लिए अच्छी बारिश की कामना की जाती है। सुहागन स्त्रियां अपने पति की लंबी उम्र के लिए ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन व्रत उपवास करती हैं।

Read More on AapnoJodhpur.com

Nirjala Ekadashi

निर्जला एकादशी व्रत विधि, शुभ मुहूर्त, महत्व – AapnoJodhpur.com

13/06/2019 in Development

हिंदू धर्म में ज्येष्ठ मास के शुल्क पक्ष की एकादशी यानी निर्जला एकादशी का विशेष मह्त्व है। एक साल में होने वाली 24 एकदाशी में से, निर्जला एकादशी सबसे श्रेष्ठ और कठिन मानी जाती है। यह व्रत बिना पानी के रखा जाता है इसलिए इसे निर्जला एकादशी कहते हैं। निर्जला एकादशी पर पानी पिए बिना  भगवान विष्णु की पूर्ण विधि से पूजा-अर्चना की जाती है। निर्जला एकादशी का यह व्रत जीवन में जल की महत्वता को बताता है।

इस बार Nirjala Ekadashi 2019 व्रत, 13 जून गुरुवार को पड़ रही है। इस दिन जगत के पालनकर्ता भगवान विष्णु की आराधनापूर्ण विधि से व्रत व दान-पुण्यसे अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है और मनुष्य को सभी पापों से मुक्ति मिलती है, जीवन निरोग रहता है और सुख सौभाग्य की प्राप्ती होती है। हिंदू पुराणों के अनुसार महाराभारत काल में इस व्रत को भीम ने किया था, इस लिए निर्जला एकादशी को भीमसेन एकादशी और पाण्डव एकादशी के नाम से भी जाना जाता है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Mahesh Navami 2019

Mahesh Navami 2019: माहेश्वरी समाज के 5152वें उत्पत्ति दिवस का पर्व – AapnoJodhpur.com

11/06/2019 in Development

माहेश्वरी वंशोत्पत्ति पर्व ‘महेश नवमी’ प्रतिवर्ष ज्येष्ठ माह में शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को मनाया जाता है। मान्यता के अनुसार माहेश्वरी समाज की उत्पत्ति भगवान महेश के वरदान स्वरूप मानी गई है। महेश नवमी ‘माहेश्वरी धर्म‘ में विश्वास करने वाले माहेश्वरी लोगों का प्रमुख पर्व है। माहेश्वरी समाज की उत्पत्ति का पर्व ‘महेश नवमी’ मुख्य रूप से भगवान महेश (महादेव) और माता पार्वती की आराधना को समर्पित है।

इस साल Mahesh Navami 2019,  माहेश्वरी समाज के 5152वें उत्पत्ति दिवस 11 जून मंगलवार को हैं। धर्मग्रंथों के अनुसार माहेश्वरी समाज के पूर्वज क्षत्रिय (Rajput) वंश के थे। माहेश्वरी का अर्थ हुआ – महेश यानी शंकर और वारि यानी समुदाय या वंश, जिस पर भगवान शिव की कृपा है। इसलिए माहेश्वरी समाज के लोग, शिव परिवार यानी (भगवान महेशमाता पार्वती एवं गणेशजी) को अपना कुलदेवता मानते हैं। समस्त माहेश्वरी समाज इस दिन भगवान शंकर और माता पार्वती के प्रति पूर्ण भक्ति और आस्था प्रगट करता है और यह उत्सव बड़े ही धूम- धाम से मनाया जाता है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Jodhpur Top Educational Institutes

Jodhpur ‘An Education Hub’, Check Top Educational Institutes In Jodhpur – AapnoJodhpur.com

05/06/2019 in Education

Jodhpur, the second largest city in the state of Rajasthan is known for its unique heritage, culture and traditions across the world. The Blue City is the only city in the state of Rajasthan which holds many national institutes like AIIMS, IIT, NIFT, FDDI, NLU, etc.

Jodhpur is the only city in the country which provide a high number of  Chartered Accountant comparable to other major cities. Jodhpur is fast becoming a major education hub for higher studies in India. The city has renowned institutes in the fields like Science, Commerce, Arts, Engineering, Medical and other domains.

In the country of 29 states where there are only 6 AIIMS, 23 IITs, 21 NLUs, 12 FDDIs which are in the operation, Jodhpur is one of the city which holds all these.

Read More on AapnoJodhpur.com

Somwati Amavasya

सोमवती अमावस्या और शनि जयंती, क्या करें कि जीवन में शुभता आए? – AapnoJodhpur.com

03/06/2019 in Development

सोमवती अमावस्या और शनि जयंती: सोमवार को आने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते है। हिंदू धर्म में सोमवती अमावस्या स्नानदान के लिए शुभ और विशेष धार्मिक महत्व रखती है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार ज्येष्ठ महीने की अमावस्या सोमवार को ही पड़ रही है। इस बार ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष की सोमवती अमावस्या और शनि जयंती का विशेष संयोग 3 जून 2019 को बन रहा है।

ऐसा संयोग 149 वर्ष बाद बनने जा रहा है। इससे पहले यह संयोग 30 मई 1870 को बना था। शनि जयंती के दिन सर्वार्थसिद्धि योग भी है। इस दिन पूजा पाठ, दान करने से विशेष प्रकार का पुण्य फल मिलेगा। इसके साथ 3 जून 2019 को ही वट सावित्री का व्रत भी रखा जाएगा।

एक दिन में तीन शुभ आयोजन होने के चलते इस दिन का महत्व कई गुणा बढ़ जाता है। इस दिन पूर्वजों के लिए तर्पण किया जाता है और पीपलतुलसी और वट वृक्ष की 108 परिक्रमा करते हुए भगवान विष्णुभगवान शिव तथा पीपल वृक्ष की पूजा करनी चाहिए।

Read More on AapnoJodhpur.com

Modi Cabinet 2.0

Modi Cabinet 2.0: Amit Shah New HM And Sitharaman As FM – AapnoJodhpur.com

01/06/2019 in Administration, Lok Sabha

Modi Cabinet 2.0: Prime Minister Narendra Damodar Das Modi and his Council of Ministers took an oath to the office on Thursday, May 30, 2019. The 17th Lok Sabha Union Cabinet includes 24 cabinet ministers, 9 ministers of state with independent charge and 24 ministers of state took an oath to the office on Yesterday May 30, 2019.

The first-time Ministers like Amit ShahS Jaishankar along with 23 other ministers including Rajnath Singh, Nitin Gadkari, Nirmala Sitharaman and Smriti Irani also took oath as Union ministers. Today, On May 31, as advised by the Prime Minister Narendra Modi, the President of India, Mr Ram Kovind, has directed the allocation of portfolios among the members of the Union Council of Ministers.

Read More on AapnoJodhpur.com

Apara Ekadashi Vrat Vidhi

Apara Ekadashi Vrat: अपरा एकादशी व्रत तिथि, पूजा विधि, महत्‍व और कथा – AapnoJodhpur.com

30/05/2019 in Development

Apara Ekadashi Vrat 2019ज्‍येष्‍ठ मास के कृष्‍ण पक्ष की एकादशी को अपरा एकादशी कहा जाता है। अपरा एकादशी (Apara Ekadashi) का बड़ा महात्‍म्‍य है, इस व्रत में अपार सिद्धिदायक गुण भरे हुए हैं। मान्‍यता है कि इस एकादशी के व्रत का पुण्‍य अपार होता है और व्रती के सारे पाप नष्‍ट हो जाते हैं। इस बार Apara Ekadashi Vrat30 मई 2019 गुरुवार को है। इस एकादशी को अचला एकादशी भी कहा जाता है।

पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार इस व्रत को करने से भगवान विष्णु के साथ माता लक्ष्‍मी भी प्रसन्‍न होती हैं और भक्‍त का घर धन-धान्‍य से भर देती हैं। पद्म पुराण के अनुसार इस एकादशी का व्रत करने से मुनष्‍य भवसागर तर जाता है और उसे प्रेत योनि के कष्‍ट नहीं भुगतने पड़ते।यह भी मान्‍यता हैं की जो भक्ति-भावव विधि-विधान से अपरा एकादशी का व्रत करता है उसके सभी कष्‍ट दूर हो जाते हैं और उसे सुख, समृद्धि और सौभाग्‍य की प्राप्‍ति होती है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Dream Of 100% Swachh Jodhpur Is Still Far, Who Is Responsible? – AapnoJodhpur.com

26/05/2019 in Administration

Swachh Survekshan 2019 results are out on March 06, 2019 and Jodhpur did not perform well in this again. Why the Dream of 100% Swachh Jodhpur is still not achieved. Let’s have a brief look at this survey and who is responsible for the delay for 100% Swachh Jodhpurand Swachh Rajasthan.

The Swachh Survekshan was started in the year 2016 by the Indian Prime Minister Narendra Modi in aim to make the India open defecation free country and cleanliness was the paramount topic of this Survekshan. The Swachhta Survekshan comes under the campaign “Swachh Bharat Mission” which is handled by Ministry of Housing and Urban Affairs (MoHUA) and is one of the world’s largest cleanliness survey till date.

Read More on AapnoJodhpur.com

Gajendra Singh Shekhawat Jodhpur Lok Sabha Election 2019

गजेंद्र सिंह शेखावत को मिला जनता का साथ, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव को हराया – AapnoJodhpur.com

24/05/2019 in Administration, Lok Sabha

Jodhpur Lok Sabha Election Result 2019: भारतीय जनता पार्टी ने राजस्थान की जोधपुर लोकसभा सीट ही नही, पूरे राजस्थान प्रदेश (25/25) और देश भर से शानदार जीत दर्ज कर ली है। जोधपुर लोकसभा सीट की जनता ने भाजपा प्रत्याशी केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को वोट देकर अपना नेता चुन लिया है। राजस्‍थान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपने गढ़ माने जाने वाले जोधपुर से अपने पुत्र वैभव गहलोत को उनका पहला चुनाव नहीं जिता पाए।

Jodhpur Lok Sabha Election result 2019 give a major setback to Rajasthan Chief Minister Ashok Gehlot, as his son Vaibhav Gehlot from Indian National Congress (INC) faced defeat in his maiden election from the Jodhpur Lok Sabha seat which was won by the BJP’s Gajendra Singh Shekhawat for a second consecutive time in this election 2019. Considered close to Jodhpuries and well known as Gajju Banna, Gajendra Singh banked on the popularity of Prime Minister Narendra Modi in his successful election campaign.

Read More on AapnoJodhpur.com

AIIMS Jodhpur Recruitment 2019, Apply For 131 SR Post – AapnoJodhpur.com

18/05/2019 in Employment, Healthcare

AIIMS Jodhpur Recruitment 2019: All India Institute of Medical Sciences, Jodhpur has invited applications for the post of Senior Residents. AIIMS Jodhpur Rajasthan has released the notification ‘AIIMS Jodhpur Recruitment 2019‘ to fill 131 vacancies for the post of Senior Resident for various departments on its official website – aiimsjodhpur.edu.in.

Candidates can apply online to AIIMS Jodhpur  Recruitment of Senior Residents post said post till 05:00 pm of the last date i.e June 172019. The application window is already started from May 17, 2019. Eligible and interested candidates must read the complete details – Important Dates, Eligibility, Pay Offered, Qualification, Selection Procedure etc about AIIMS Jodhpur Recruitment 2019 and Apply Online for 131 Senior Residents Posts in AIIMS Jodhpur.

Read More on AapnoJodhpur.com

Mohini Ekadashi

Mohini Ekadashi: दु:खों से छुटकारा दिलाने वाली मोहिनी एकादशी व्रत विधि और महत्व – AapnoJodhpur.com

14/05/2019 in Development

Mohini Ekadashi 2019वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोहिनी एकादशी कहा जाता है। इस बार Mohini Ekadashi व्रत 15 मई 2019बुधवार को पड़ रहा है। इस दिन भगवान विष्णु की विशेष पूजा के साथ व्रत-उपवास किया जाता हैं। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन भगवान विष्णु ने मोहिनी अवतार धारण करके समुद्र मंथन से निकले अमृत कलश को दानवों से बचाकर देवताओं को अमृतपान कराया था।

ऐसी मान्यता भी है कि मोहिनी एकादशी व्रत करने से व भगवान विष्णु की आराधना करने से व्यक्ति बुद्धिमान होता है, सुख-समृद्धि बढ़ती है, व्यक्तित्व में निखार आता है और शाश्वत शांति भी प्राप्त होती है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Admission 2019 Begins At School Of Insurance Studies (SIS) – AapnoJodhpur.com

09/05/2019 in Education

The School of Insurance Studies under National Law University Jodhpur has begun the Application process for the admission to its two year MBA programme in Insurance. Admission into NLU Jodhpur MBA in Insurance- 2019 will be granted on the basis of CAT/MAT/CMATscores.

The School of Insurance Studies (SIS) Jodhpur, started in 2002, has already established itself as the premier institution maintaining the highest standards of education, research and professional skills in the field of Insurance.

Read More on AapnoJodhpur.com

Shani Amavsya

Shani Amavasya: शनि अमावस्या पर शनिदेव को प्रसन्न, पूजन करने के विशेष उपाय – AapnoJodhpur.com

04/05/2019 in Development

Shani Amavasyaवैशाख कृष्ण पक्ष के आखिरी दिन 4 मई 2019 शनिवार को शनिश्चरी अमावस्या मनाई जाएगी। चूंकि अमावस्या तिथि शनिवार के साथ पड़ रही है, इसीलिए इसे शनिश्चरी अमावस्या (Shani Amavasya) कहते है। अमावस्या की तिथि धार्मिक दृष्टि से बेहद शुभ, अत्‍यंत महत्‍वपूर्णपुण्यदायिनी मानी जाती है। इसीलिए इस दिन अमावस्या होने से शनिवार का महत्व और अधिक बढ़ गया है।

शास्त्रों के अनुसार अमावस्‍या  की तिथि यदि शनिवार को आ रही हो तो यह और भी मंगलकारी मानी जाती है। यह तिथि पितरों को प्रसन्न करने तथा जीवन के सभी संकटों का नाश करने वाली मानी गई है। इस दिन शनिदेव की पूजा के साथ ही पितरों की पूजा का विशेष महत्व है।

यह दिन शनि भक्तों के लिए विशेष फलदायी माना जाता है। इस दिन शनिदेव अपने भक्तों पर कृपा बरसाकर उन्हें पापों व कष्टों से मुक्ति दिलाते हैं। कहते हैं आज के दिन शनिदेव की पूजा करने से, उनके निमित्त उपाय करने से शनिदेव बहुत जल्दी खुश होते हैं। साथ ही जन्मपत्रिका में शनि के अशुभ प्रभाव से होने वाली परेशानियों, जैसे शनि की साढे-सातीढैय्या और कालसर्प योग से भी छुटकारे के लिए बहुत महत्वपूर्ण दिन  है।
Varuthini Ekadashi

Varuthini Ekadashi: सौभाग्य दिलाने वाली वरुथिनी एकादशी व्रत कथा, महत्व एवं पूजा विधि – AapnoJodhpur.com

30/04/2019 in Development

Varuthini Ekadashi 2019: हिंदू धर्म में मान्यता है कि एकादशी का व्रत रखने से जीव की आत्मा को मोक्ष की प्राप्ति होती है। हर एकादशी का अपना ही महत्वहोता है। वैशाख माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को ‘वरुथिनी एकादशी‘ कहा जाता है। इसे ‘वरूथिनी ग्यारस‘ भी कहते  है। इस बार Varuthini Ekadashi, 30 अप्रैल मंगलवार को है। मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु की विशेष पूजा व व्रत करने से घर मे सुख-समृद्धि, लोक और परलोक में सौभाग्य की प्राप्ति होती है और पुण्य लाभ भी मिलता है।

वरुथिनी‘ शब्द संस्कृत भाषा के ‘वरुथिन्‘ से बना है, जिसका अर्थ है- कवच या रक्षा करने वाला। वैशाख कृष्ण एकादशी का व्रत भक्तों की हर संकट से रक्षा करता है, इसलिए इसे वरुथिनी ग्यारस भी कहा जाता हैं। इस दिन जो व्यक्ति व्रत-उपवास विधि-विधान से रखते हैं, उन्हें कठिन तपस्या के बराबर फल प्राप्त मिलता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Varuthini Ekadashi

Varuthini Ekadashi: सौभाग्य दिलाने वाली वरुथिनी एकादशी व्रत कथा, महत्व एवं पूजा विधि – AapnoJodhpur.com

30/04/2019 in Sports

Varuthini Ekadashi 2019: हिंदू धर्म में मान्यता है कि एकादशी का व्रत रखने से जीव की आत्मा को मोक्ष की प्राप्ति होती है। हर एकादशी का अपना ही महत्वहोता है। वैशाख माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को ‘वरुथिनी एकादशी‘ कहा जाता है। इसे ‘वरूथिनी ग्यारस‘ भी कहते  है। इस बार Varuthini Ekadashi, 30 अप्रैल मंगलवार को है। मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु की विशेष पूजा व व्रत करने से घर मे सुख-समृद्धि, लोक और परलोक में सौभाग्य की प्राप्ति होती है और पुण्य लाभ भी मिलता है।

वरुथिनी‘ शब्द संस्कृत भाषा के ‘वरुथिन्‘ से बना है, जिसका अर्थ है- कवच या रक्षा करने वाला। वैशाख कृष्ण एकादशी का व्रत भक्तों की हर संकट से रक्षा करता है, इसलिए इसे वरुथिनी ग्यारस भी कहा जाता हैं। इस दिन जो व्यक्ति व्रत-उपवास विधि-विधान से रखते हैं, उन्हें कठिन तपस्या के बराबर फल प्राप्त मिलता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

Read more on AapnoJodhpur.com

Varuthini Ekadashi

Varuthini Ekadashi: सौभाग्य दिलाने वाली वरुथिनी एकादशी व्रत कथा, महत्व एवं पूजा विधि – AapnoJodhpur.com

30/04/2019 in Development

Varuthini Ekadashi 2019: हिंदू धर्म में मान्यता है कि एकादशी का व्रत रखने से जीव की आत्मा को मोक्ष की प्राप्ति होती है। हर एकादशी का अपना ही महत्वहोता है। वैशाख माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को ‘वरुथिनी एकादशी‘ कहा जाता है। इसे ‘वरूथिनी ग्यारस‘ भी कहते  है। इस बार Varuthini Ekadashi, 30 अप्रैल मंगलवार को है। मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु की विशेष पूजा व व्रत करने से घर मे सुख-समृद्धि, लोक और परलोक में सौभाग्य की प्राप्ति होती है और पुण्य लाभ भी मिलता है।

वरुथिनी‘ शब्द संस्कृत भाषा के ‘वरुथिन्‘ से बना है, जिसका अर्थ है- कवच या रक्षा करने वाला। वैशाख कृष्ण एकादशी का व्रत भक्तों की हर संकट से रक्षा करता है, इसलिए इसे वरुथिनी ग्यारस भी कहा जाता हैं। इस दिन जो व्यक्ति व्रत-उपवास विधि-विधान से रखते हैं, उन्हें कठिन तपस्या के बराबर फल प्राप्त मिलता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

Read more on AapnoJodhpur.com

Varuthini Ekadashi

Varuthini Ekadashi: सौभाग्य दिलाने वाली वरुथिनी एकादशी व्रत कथा, महत्व एवं पूजा विधि – AapnoJodhpur.com

30/04/2019 in Development

Varuthini Ekadashi 2019: हिंदू धर्म में मान्यता है कि एकादशी का व्रत रखने से जीव की आत्मा को मोक्ष की प्राप्ति होती है। हर एकादशी का अपना ही महत्वहोता है। वैशाख माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को ‘वरुथिनी एकादशी‘ कहा जाता है। इसे ‘वरूथिनी ग्यारस‘ भी कहते  है। इस बार Varuthini Ekadashi, 30 अप्रैल मंगलवार को है। मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु की विशेष पूजा व व्रत करने से घर मे सुख-समृद्धि, लोक और परलोक में सौभाग्य की प्राप्ति होती है और पुण्य लाभ भी मिलता है।

वरुथिनी‘ शब्द संस्कृत भाषा के ‘वरुथिन्‘ से बना है, जिसका अर्थ है- कवच या रक्षा करने वाला। वैशाख कृष्ण एकादशी का व्रत भक्तों की हर संकट से रक्षा करता है, इसलिए इसे वरुथिनी ग्यारस भी कहा जाता हैं। इस दिन जो व्यक्ति व्रत-उपवास विधि-विधान से रखते हैं, उन्हें कठिन तपस्या के बराबर फल प्राप्त मिलता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

Read more on AapnoJodhpur.com

Jodhpur Lok Sabha Constituency: High-Voltage Contest For Both BJP And Congress – AapnoJodhpur.com

27/04/2019 in Administration, Lok Sabha

Jodhpur Lok Sabha Constituency: The conch for Lok Sabha Elections 2019 has been blown up and we are ready for the fourth phase of the voting that will happen on 29th of April 2019 for 71 Lok Sabha seats. For 25 Lok Sabha seats in Rajasthan, Voting will happen in two phases – on April 29 and May 06, 2019. If we are discussing Rajasthan we can’t forget to talk about the Blue CityJodhpur.

जोधपुर लोकसभा सीट के लिए चुनाव, बीजेपी और कांग्रेस के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गया है. This time General Elections from Jodhpur Lok Sabha Constituency, from INC we have Chief Minister Ashok Gehlot’s son Vaibhav Gehlot who is up against Union Agriculture Minister and BJP candidate Gajendra Singh ShekhawatJodhpur is the home town of CM Gehlot, makes the Jodhpur Lok Sabha Constituency a High-Voltage Contest For Both BJP And Congress.

Read More on AapnoJodhpur.com

Admission Process Begins For IIT Jodhpur MTech Programmes – AapnoJodhpur.com

23/04/2019 in Education

The online application form for Admission to IIT Jodhpur MTech Programmes has already started and the last date for the same is extended to April 25, 2019. The admission process for the Indian Institute of Technology Jodhpur (IITJ) postgraduate programme M.Tech and M.Tech-Ph.D Dual Degree will be based on the valid GATE score and performance of the candidates in Personal Interview (PI) round.

The postgraduate programme M.Tech courses offered by IIT Jodhpur provide training and practical exposure along with the theoretical knowledge to students to fit the requirements of the industry and secure lucrative jobs.

In this article, we will let you know about the eligibility criteria, important dates for M.Tech admission, selection procedure, application form and its fees and programmes offered by IIT Jodhpur for M.Tech programme. Eligible and interested candidates should read eligibility criteria and other details for the IIT Jodhpur postgraduate engineering admission carefully and apply before the last date.

Read More on AapnoJodhpur.com

Dhinga Gavar bentmaar Gangaur

मारवाड़ में अनूठी है धींगा गवर पूजन की संस्कृति – AapnoJodhpur.com

22/04/2019 in Tourism

Dhinga Gavar Festival is unique festival of Rajasthan, that is meant for women. महिला सशक्तिकरण का परिचायक है मारवाड़ का यह अनूठा धींगा गवर का मेला। देशभर में गणगौर का पूजन केवल सुहागिनें ही करती हैं, लेकिन मारवाड़ मे ही गणगौर का पूजन सुहागिनें के साथ विधवा महिलाएं भी करती हैं, जिसे धींगा गवर कहते हैं। गणगौर पूजा के 16वें दिन वैशाख कृष्ण पक्ष की तृतीया को ‘धींगा गवर’ का पूजन होता है।

बरसाने की प्रसिद्ध बेंतमार होली के बारे में सबने सुना ही होगा। आज हम आपको राजस्थान के मारवाड़ प्रान्त खासकर जोधपुर में मनाए जाने वाले इसी तरह के एक उत्सव के बारे में बता रहे है। इस उत्सव का नाम है ‘धींगा गवर’। इस उत्सव को बेंतमार गणगौर के रूप में भी जाना जाता है। इस उत्सव में लड़कियां कुंवारे लड़कों को डंडा मारती हैं। मान्यता के अनुसार अगर डंडा किसी कुंवारे लड़के पर लगता है तो उसकी शीध्र शादी होना पक्का समझा जाता है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Kamada Ekadashi 2019

Kamada Ekadashi 2019: जानिए कामदा एकादशी व्रत विधि, कथा और महत्व – AapnoJodhpur.com

15/04/2019 in Development

Kamada Ekadashi 2019: हिन्दू पंचांग के अनुसार हर महीने में दो बार एकादशी आती है। हिंदू संवत्सर की पहली एकादशी और चैत्र महीने की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को कामदा एकादशी के नाम से जाना जाता है। इसे फलदा एकादशी भी कहते हैं। इस साल Kamada Ekadashi 2019, सोमवार, 15 अप्रैल को है। यह एकादशी चैत्र नवरात्रि के बाद पहली एकादशी है। विष्णु पुराण के अनुसार मान्यता है कि कामदा एकादशी का व्रत रखने व्रती को प्रेत योनि से भी मुक्ति मिल जाती है।

शास्त्रों में कामक्रोध और लोभ, इन तीन को मनुष्यो के दुखो का मूल कारण माना गया है। काम पीड़ित होने पर व्यक्ति के अंदर अच्छे बुरे का फर्क करने की क्षमता खत्म हो जाती है। ऐसे ही पापों से मुक्ति के लिए शास्त्रों में चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी का व्रत करने का विधान है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Ram Darbar Ram Vanami 2019

Ram Navami 2019: कब है राम नवमी, जानें शुभ मुहूर्त, महत्‍व व श्रीराम पूजन विधि – AapnoJodhpur.com

13/04/2019 in Development

Ram Navami 2019: हिन्दू धर्म में चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि के दिन भगवान श्रीराम का जन्मोत्सव बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है। राम नवमी के पावन पर्व पर भगवान श्रीराम के साथ मां दुर्गा की पूजा-अर्चना करने का विधान है। इस साल Ram Navami 2019 के दिन (13/14 अप्रैल) को लेकर भक्तो में संशय हैं।

श्रीराम नवमी स्मार्त मतानुसार 13 अप्रैल को है। इस दिन सुबह 11.41 बजे तक अष्टमी तिथि है, इसके बाद नवमी तिथि शुरू हो जाएगी। वहीं, वैष्णव मत में उदयकाल की तिथि मानी जाती है, इसलिए 14 अप्रैल को सुबह 9.35 बजे तक नवमी होने से इस मत के लोग 14 अप्रैल को नवमी मनाएंगे।

रामनवमी के दिन भगवान श्रीराम की पूजा-अर्चना करने से विशेष पुण्य मिलता है। धर्मशास्त्रों के अनुसार राम नवमी के ही दिन त्रेता युग में पुनर्वसु (पुष्य) नक्षत्र  और कर्क लग्न में महाराज दशरथ के घर, रानी कौशल्या के गर्भ से भगवान विष्णु जी के सातवां अवतार भगवान श्री राम का जन्म  हुआ था।

Read More on AapnoJodhpur.com

Hindu New Year 2076

हिंदू नववर्ष 2076 का आगाज, क्यों है खास और क्या है महत्व? – Aapnojodhpur.com

06/04/2019 in Development

Hindu Nav Varsh 2076: यूं तो पाश्चात्य सभ्यता की तर्ज पर नया साल 1 जनवरी को मनाते हैं लेकिन हिंदू धर्म के अनुसार हिंदू नववर्ष (Hindu New Year) 1 जनवरी को नहीं बल्कि चैत्र (Chaitra) महीने की पहली तिथि यानि चैत्र प्रतिपदा को मनाया जाता है। हिंदू नववर्ष 2076, इस बार 6 अप्रैलचैत्र नवरात्र को मनाया जा रहा हैं। हिन्दू नव वर्ष पूरे देश में बड़े उल्लास और उत्साह के साथ मनाया जाता है। देशभर में ये कई नाम जैसे गुड़ी पड़वाउगादी आदि से जाना जाता है जिसके अनुसार ये एक नए साल की शुरूआत है। नया संवत्सर यानी नया हिंदू नववर्ष 2076 का नाम परिधावी है। धार्मिक मान्यता के अनुसार हिंदू नववर्ष के राजा शनिहैं और मंत्री सूर्य हैं।

हिन्दू धर्म के लोग अपने साल भर में आने वाले सभी त्यौहार इसी नववर्ष के अनुसार मनाते है। हिंदू कैलेंडर जिसे पंचांग कहते हैं उसके अनुसार ही सभी शुभ काम भी किए जाते हैं। मान्यता है कि चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा के दिन भगवान ब्रह्मा ने सृष्टि की रचना शुरू की थी, इसी कारण से इस दिन का महत्व और भी बढ़ जाता है। हिंदू नववर्ष का आरंभ विक्रमादित्य ने किया था, अतः इसको विक्रम संवत भी कहा जाता है। हिंदू नववर्ष के पहले दिन को नव संवत्सर या विक्रम संवतभी कहकर बुलाते हैं।

Read More on AapnoJodhpur.com

Chaitra Navratra 2019

Chaitra Navratri 2019: तिथियां, घट स्थापना शुभ मुहूर्त व नवरात्र का महत्व – AapnoJodhpur.com

05/04/2019 in Development

Chaitra Navratri 2019:  प्रत्येक साल में चार बार – चैत्रआषाढ़आश्विन और माघ महीनों में नवरात्र आते हैं, जिनमें से 2 गुप्त नवरात्र होते हैं और 2 नवरात्र चैत्र और आश्विन महीने में आते हैं। चैत्र और आश्विन माह के नवरात्र ज्यादा लोकप्रिय हैं जिन्हें पूरे देश में व्यापक स्तर पर आदि शक्ति मां दुर्गा (Maa Durga) की आराधना के लिये श्रेष्ठ माना जाता है। Chaitra Navratri 2019, 6 अप्रैल से आरंभ हो रहे हैं।

नवरात्र (Navratri), मां भगवती को समर्पित पर्व हैं। नवरात्र के नौ दिनों में देवी दुर्गा के अलग अलग 9 रूपों – शैलपुत्रीब्रह्मचारिणीचंद्रघंटा, कूष्मांडास्कंदमाता, कात्यायनी कालरात्रिमहागौरी और सिद्धिदात्री की भक्ति भाव से पूजा अर्चना का विधान है। चैत्र नवरात्र के दौरान मां दुर्गा के नौ रुपों के साथ-साथ अपने कुल देवी-देवताओं की भी पूजा अर्चना की जाती है जिससे ये नवरात्र विशेष हो जाता है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Hindu Festivals and Fasts in April 2019

Hindu Calendar April 2019: जानिए हिन्दू नववर्ष, नवरात्र सहित प्रमुख व्रत-त्यौहार – AapnoJodhpur.com

03/04/2019 in Development

Hindu Calendar April 2019: अप्रैल 2019 में शुरू हो रहा है हिन्दू नववर्ष, इस महीने नवरात्ररामनवमीहनुमान जयंती सहित प्रमुख व्रत-त्यौहार रहेंगे। Hindu Calendar April 2019 के अनुसार, अप्रैल 2019 के 16 दिन हिन्दू व्रत-त्योहार के रहेंगे। जिनमें हिन्दू नववर्ष यानी गुड़ी पड़वा  सहित चैत्र नवरात्रगणगौर तीज, राम नवमी और हनुमान जयंती जैसे व्रत-त्योहार भी शामिल हैं।

हिन्दू नववर्ष का पहला महीना तीज-त्योहार और व्रत-उपवास के नजरिए से बहुत ही खास माना जा रहा है। अप्रैल 2019 माह मे त्योहारों की शुरुआत 2 अप्रैलमंगलवार को प्रदोष व्रत के साथ हो रही है और वैशाख बदी एकादशी पर ये महीना खत्म हो रहा है। देखें Hindu Calendar April 2019 में प्रमुख व्रत-त्योहार की पूरी जानकारी.

Read More on AapnoJodhpur.com

Paapmochani Ekadashi 2019

Papmochani Ekadashi 2019: पापमोचनी एकादशी व्रत, जानें शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और कथा – AapnoJodhpur.com

31/03/2019 in Development

Papmochani Ekadashi 2019: हिन्दू शास्त्रों में भगवान विष्णु को समर्पित एकादशी व्रत का विशेष महत्व है। चैत्र महीने के कृष्ण पक्ष की एकादशी को पापमोचनी एकादशी कहा जाता है। यह एकादशी होली और चैत्र नवरात्रि के बीच मे आती है। यह एकादशी बहुत ही पुण्यदायी होती है। इस बार Papmochani Ekadashi 2019, 31 मार्चरविवार को है। सभी तरह के पापों को नष्ट कर, यह एकादशी व्रत मोक्ष का द्वार खोलती है।

सर्व पापमोचनी एकादशी का शास्त्रों का बहुत बड़ा महत्व बताया गया हैं, पुराण ग्रंथों के अनुसार अगर कोई इंसान जाने-अनजाने में किए गये अपने पापों का प्रायश्चित करना चाहता है तो उसके लिये पापमोचनी एकादशी ही सबसे बेहतर दिन होता है। इसके अलावा भी इस दिन उपवास रखने के साथ श्रद्धा पूर्वक व्रतकरने से जिस चीज की कामना की जाती हैं, वह मनोकामना पूरी हो जाती हैं। इसे करने से धन प्राप्‍त‍ि भी होती है, शरीर आरोग्‍य रहता है। जानिए इसका शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, लाभ और कथा के बारें में।

Read More on AapnoJodhpur.com

Dashamata Vrat Pujan

Dasha Mata Vrat 2019: दशा माता व्रत, जानें पूजन विधि और शुभ मुहूर्त- AapnoJodhpur.com

30/03/2019 in Development

Dasha Mata Vrat 2019दशा माता का व्रतदशा या परिस्थिति अनुकूल बनी रहे ऐसी कामना के साथ किया जाता है। दशा माता यानि माँ भगवतीकी पूजा और व्रत करके महिलायें गले में डोरा पहनती है ताकि परिवार में शांतिसुख और समृद्धि बनी रहे। इसे साँपदा माता का डोरा भी कहते हैं। दशा माता का व्रत चैत्र महीने के कृष्ण पक्ष की दशमी तिथि के दिन किया जाता है। होली के दस दिन बाद यह व्रत आता है। हिंदू पंचांग के मुताबिक, इस वर्ष Dasha Mata Vrat 2019, 30 मार्च शनिवार के दिन है।

जब किसी की दशा ख़राब हो तो पूरी कोशिश करने पर भी उसका कोई काम पूरा नहीं होता। दशा ख़राब हो तो अनेक प्रकार की बाधाएँ उत्पन्न हो जाती हैं। ऐसे ही संकटों से उबारने वाला है दशा माता व्रत। इस स्थिति से बचने के लिए और दशा सही बनी रहे इसी कामना के साथ यह दशा माता का व्रत महिलाओं द्वारा भक्तिभाव से किया जाता है। इस व्रत को जो व्यक्ति भक्ति-भाव से करता है, उसके घर से दु:ख और दरिद्रता दूर हो जाती है।

Read More on AapnoJodhpur.com

शीतला अष्टमी पूजन के बाद करे शीतला माता की कथा, शीतला माता के रूप का अर्थ – AapnoJodhpur.com

28/03/2019 in Development

शीतला माता की कथा: शीतला माता को प्रसन्न करने के लिए चैत्र महीने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि (शीतला अष्टमी) को उनकी पूजा की जाती हैं। कुछ स्थानों पर सप्तमी तिथि पर भी ये पर्व मनाया जाता है, जिसे शीतला सप्तमी कहते हैं। इस पर्व में एक दिन पूर्व बनाया हुआ भोजन किया जाता है, अत: इसे बसौड़ाबसियौरा व बसोरा भी कहते हैं। शीतला सप्तमी और शीतला अष्टमी की पूजा करने के बाद शीतला माता की कथा सुनी जाती है। इससे पूजा का सम्पूर्ण फल प्राप्त होता है। शीतला सप्तमी या अष्टमी की पूजा करने की विधि  व महत्व

Read More on AapnoJodhpur.com

Sheetla Ashtami Mandir

Sheetla Ashtami 2019: शीतला माता पूजन विधि, शीतला अष्टमी व बसौड़ा का महत्व – AapnoJodhpur.com

28/03/2019 in Development

Sheetla Ashtami 2019: शीतला अष्टमी 2019 का पर्व चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनाया जाता हैं। इस साल Sheetla Ashtami 2019, 28 मार्च 2019, गुरूवार के दिन हैं। कुछ लोग शीतला सप्तमी भी पूजते हैं, शीतला सप्तमी 2019 शीतला सप्तमी 2019 का पर्व, 27 मार्च 2019, बुधवार को हैं। शीतला अष्टमी पर शीतला माता का पूजन किया जाता है और बसौड़ा का प्रसाद लगाया जाता है।

शीतला मां की पूजा सूर्य उगने से पहले ही कर ली जाती है और इन्‍हें प्रसाद के रूप में ठंडा व बासी भोजन, दही, राब, सोगरा, बाजरी और घी इत्यादि चढ़ाया जाता है। शीतला अष्टमी के दिन घर में अग्नि जलाना निषिद्ध होता है। इसलिए लोग अपने लिए भी एक दिन पहले ही खाना बना लेते हैं और शीतलाष्‍टमी के दिन बासी खाना ही खाते हैं।

शीतला माता का वर्णन स्कंद पुराण में भी मिलता है। इसके अनुसार देवी शीतला को दुर्गा और पार्वती का अवतार माना गया है और इन्हें रोगों से उपचार की शक्ति प्राप्त है। घरों में सप्तमी के दिन कई तरह के पकवान- हलवापूरीकेर सांगरी की सब्जीदही बड़ापकौड़ी, पुए रबड़ीराबरीचावलसोगरा, आदि बनाए जाते हैं। अगले दिन अष्टमी की सुबह महिलाएं इन चीजों का भोग शीतला माता को लगाकर परिवार की सुख-समृद्धि की कामना करती हैं। इस दिन घर के सदस्य भी बासी भोजन प्रसाद के रूप मे ग्रहण करते हैं। इसी वजह से शीतला अष्टमी को बासौड़ा पर्व भी कहा जाता है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Chaitra Month Fast Festivals

हिंदू पंचाग का पहला माह चैत्र, जानिए प्रमुख व्रत-त्यौहार और महत्व – AapnoJodhpur.com

25/03/2019 in Development

Chaitra 2019: हिंदू धर्म में चैत्र महीने का धार्मिक और सांस्कृतिक रूप से बहुत अधिक महत्व है। चैत्र महीने से विक्रम संवत और राष्ट्रीय नववर्ष शक् संवत् का आरंभ होता है और हिन्दू धर्म के कई बड़े पर्व मनाए जाते हैं। हिन्दू कैलेंडर शक संवत का पहला महीना चैत्र और अंतिम महीना फाल्गुन, दोनों ही बहुत ही खूबसूरत महीने  माने जाते हैं। ऋतुओं में से ऋतुराजबसंत ऋतु इन्हीं दो महीनों मे होती है। इन महीनों में जन-जीवन में भी एक नई ऊर्जाउत्साह व उल्लास का संचार होता है।

चैत्र महीने से हिन्दू नववर्ष का आरंभ होता है। चैत्र महीने में हिन्दू धर्म के कई बड़े व्रत-त्यौहार मनाए जाते हैं जिनमे सबसे बड़ा पर्व चैत्र नवरात्रि है। आज हम आपको चैत्र माह से जुडी जानकारियां दे रहे हैं – चैत्र 2019 कब है? चैत्र 2019 के व्रत-त्यौहारचैत्र का महत्व

Read More on AapnoJodhpur.com

Holi 2019, Meaning of Holi Colours

होली के रंगों का महत्व, त्वचा से हटाने के आसान तरीके – AapnoJodhpur.com

21/03/2019 in Development

Holi 2019: रंगोत्सव होली का त्योहार..प्यार का त्यौहार..गिले शिकवे भूल सब पर प्यार लुटाने का त्यौहार। Holi, the festival of colours is here, will be celebrated on March 21, 2019 next day of Holika DahanMarch 20, 2019. We all wait for it the whole year so that we can enjoy those Gujiyas, Thandai, Mithai (Sweets), Gulal and Colours. Holi festival provides an occasion to reset and renew ruptured relationships, end conflicts and rid themselves of accumulated emotional past impurities.

Holi, a Hindu spring festival of love, frolic, and colours, celebrated majorly in the Indian subcontinent. Now, it has become popular among other communities also across the globe.

Dhulandi

The next morning of Holika Dahan is celebrated as Rangwali Holi or Dhulandi – a festival of colours, where people smear each other with Gulal, colours and drench each other. Water guns and water-filled balloons are also used to play and colour each other.

The frolic and fight with colours occur in the open streets, open parks, outside temples and buildings. Groups carry drums and other musical instruments, go from place to place, sing and dance. People visit family, friends and foes to throw coloured powders at each other, laugh and gossip.

In the Braj region of Uttar Pradesh in India, where the Hindu deity Krishna grew up, the festival is celebrated until Rangpanchmi in commemoration of the divine love of Radha for Krishna. The festivities officially usher in spring, with Holi celebrated as a festival of love.

Read More on AapnoJodhpur.com

Holika Dahan 2019

Holika Dahan 2019: होली पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, मन्त्र और महत्व – AapnoJodhpur.com

20/03/2019 in Development

Holika Dahan 2019फाल्गुन माह की पूर्णिमा को होली (Holi) का त्योहार मनाया जाता है। होली सिर्फ रंगों का ही नहीं एकतासद्भावना और प्रेम का प्रतीक भी माना जाता है। होली में रंगों के साथ-साथ होलिका दहन (Holika Dahan) की पूजा का भी खास महत्व है। बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार, होली इस बार बुधवार 20 मार्च को होलिका दहन से शुरू हो होगा और बृहस्पतिवार 21 मार्च को रंगों की होली खेली जाएगी। होलिका दहन को छोटी होली (Chhoti Holi) और होलिका दीपक (Holika Deepak) भी कहते हैं।

इस दिन बड़ी संख्याओं में पुरुष और महिलाएं होली की पूजा करते हैं। मान्यता है कि इस पूजा से घर में सुख और शांति आती है। अगर आप भी इस बार होलिका दहन की पूजा कर रहे हैं, तो यहां दी गई आसान विधि को देखें। इस साल 20 मार्च को होलिका दहन के दिन सुबह से रात तक भद्रा रहेगी। भद्रा को विघ्नकारक और शुभ कार्य में निषेध माना जाता है। ऐसे में लोगों में होलिका दहन के समय को लेकर दुविधा है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Holika Dahan 2019

Holika Dahan 2019: होली पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, मन्त्र और महत्व – AapnoJodhpur.com

20/03/2019 in Development

Holika Dahan 2019फाल्गुन माह की पूर्णिमा को होली (Holi) का त्योहार मनाया जाता है। होली सिर्फ रंगों का ही नहीं एकतासद्भावना और प्रेम का प्रतीक भी माना जाता है। होली में रंगों के साथ-साथ होलिका दहन (Holika Dahan) की पूजा का भी खास महत्व है। बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार, होली इस बार बुधवार 20 मार्च को होलिका दहन से शुरू हो होगा और बृहस्पतिवार 21 मार्च को रंगों की होली खेली जाएगी। होलिका दहन को छोटी होली (Chhoti Holi) और होलिका दीपक (Holika Deepak) भी कहते हैं।

इस दिन बड़ी संख्याओं में पुरुष और महिलाएं होली की पूजा करते हैं। मान्यता है कि इस पूजा से घर में सुख और शांति आती है। अगर आप भी इस बार होलिका दहन की पूजा कर रहे हैं, तो यहां दी गई आसान विधि को देखें। इस साल 20 मार्च को होलिका दहन के दिन सुबह से रात तक भद्रा रहेगी। भद्रा को विघ्नकारक और शुभ कार्य में निषेध माना जाता है। ऐसे में लोगों में होलिका दहन के समय को लेकर दुविधा है।

Read More on AapnoJodhpur.com

आमलकी एकादशी पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, महत्व और व्रत कथा – AapnoJodhpur.com

17/03/2019 in Development

Amalaki Ekadashi 2019: फाल्गुन महीने की शुक्ल पक्ष एकादशी को आमलकी एकादशी (Amalaki Ekadashi) के नाम से भी जाना जाता है। आमलकी का अर्थ होता है आंवला। इस दिन भगवान विष्णु और आंवले के वृक्ष की पूजा करने का विधान है। हिंदू पंचांग (Hindu Calendar) के मुताबिक, Amalaki Ekadashi 2019 इस वर्ष 17 मार्च, रविवार के दिन है। आमलकी यानी आंवले को हमारे धर्मग्रंथों में अमृत तुल्य पवित्र फल माना जाता है।

इस व्रत की अत्यधिक महिमा है, इस पर्व पर आंवले के पेड़ (Amla Tree) की पूजा-अर्चना करने की परंपरा है। आमलकी एकादशी के संदर्भ में मान्यता है कि इस दिन विधिवत व्रत एवं पूजा करने से शत्रुओं एवं अन्य विपदाओं पर विजय की प्राप्ति होती है, मनोकामनाएं पूरी होती हैं, आधे-अधूरे कार्य सफलता पूर्वक संपन्नहोते हैं एवं सभी पापों से मुक्ति मिलती हैं। इस व्रत का फल 1000 गायों के दान के मिले पुण्यों के बराबर होता है।

आमलकी (आंवला) एकादशी को रंगभरी एकादशी भी कहते है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, बाबा विश्वनाथ महाशिवरात्रि के दिन मां पार्वती से विवाह रचाने के बाद फाल्गुन शुक्ल एकादशी पर गौना लेकर काशी आए थे। मान्यता है कि इस दिन बाबा विश्वनाथ स्वयं भक्तों के साथ होली खेलते हैं।

Read More on AapnoJodhpur.com

Lok Sabha Election 2019 Schedule

Lok Sabha Election 2019 Schedule, State And Phase Wise Election Details – AapnoJodhpur.com

16/03/2019 in Administration

Lok Sabha Election 2019 Scheduleचुनाव आयोग ने 10 मार्च, रविवार को 17वीं लोकसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी है। जिसके मुताबिक लोकसभा चुनाव 2019543 सीटों पर 7 चरणों में होंगे। पहले चरण में 11 अप्रैल को 20 राज्यों की 91 सीटों पर वोट डाले जाएंगे, आखिर चरण का मतदान 19 मई, को 8 राज्यों की 59 सीटों पर होगा। 17वीं लोकसभा चुनाव के वोटों की गिनती 23 मई, गुरुवार को की जाएगी।

17वीं लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही राजनीतिक दलो में भी गहमागहमी तेज हो गई है। एक तरफ विपक्षी पार्टियां एक साथ मिलकर मोदी को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाना चाहती हैं वही NDA भी अपनी कुर्सी बच्चाने के लिए मेहनत कर रही हैं।

Read More on AapnoJodhpur.com

MahaShivratri Bholenath Mahadev

Mahashivratri 2019: महाशिवरात्रि की पूजा विधि, मुहूर्त, शिव मंत्र और महत्व – AapnoJodhpur.com

04/03/2019 in Development

Mahashivratri 2019भगवान शिव की आराधना का महापर्व, महाशिवरात्रि 2019 इस बार 4 मार्च, सोमवार को मनाई जाएगी। हर महीने की कृष्णपक्ष चतुर्दशी को मास शिवरात्रि मनाई जाती हैं, लेकिन फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को पड़ने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि की प्रधानता दी गई है। माना जाता है कि इस रात में विधिवत साधाना करने से भोलेनाथ की विशेष कृपा प्राप्त की जा सकती है। इस दिन शिवालयों में जलाभिषेक और पूजा अर्चना के लिए भक्त विशेष रूप से इकट्ठा होते हैं।

प्रयागराज में चल रहे कुंभ (Kumbh 2019) में भी महाशिवरात्रि के दिन आखिरी शाही स्नान होगा और इसी के साथ कुंभ मेले का समापन हो जाएगा। इस बार की महाशिवरात्रि सोमवार को पड़ने की वजह से और भी खास होगी।

Read More on AapnoJodhpur.com

Vijaya Ekadashi 2019

Vijaya Ekadashi 2019: विजया एकादशी व्रत का शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और महत्व – AapnoJodhpur.com

02/03/2019 in Development

Vijaya Ekadashi 2019फाल्गुन महीने की कृष्ण पक्ष की एकादशी को विजया एकादशी कहते है। इस बार यह 2 मार्च, शनिवार को मनाई जाएगी। धर्म ग्रंथों के अनुसार जो व्यक्ति विजया एकादशी का व्रत करता है, उसे हर काम में विजय यानी सफलता मिलती है और हर परेशानियों से उसे छुटकारा मिलता है। इस दिन सर्वेश्वर भगवान विष्णु की पूजा-अर्चना और व्रत करने की परंपरा है।

नाम के अनुसार ही इस एकादशी का व्रत करने वाला सदा विजयी रहता है। ऐसी मान्यता है कि भगवान श्रीराम ने रावण से युद्ध करने के पूर्व समुद्र किनारे अपनी पूरी सेना के साथ इस व्रत को रखा था और लंका पर विजय हासिल की थी।

Read More on Vijaya Ekadashi on AapnoJodhpur.com

LACONIC 2019 FDCR

Laconic 2019: FDCR To Bring Fashion Pageant On March 2-3, 2019 – AapnoJodhpur.com

26/02/2019 in Art & Craft, Employment

2-day Fashion Fest ‘Laconic 2019’ by the FDCR is all set to bring a fashion show at Jawahar Kala Kendra (JKK) in Jaipur on March 2-3, 2019. Over the 2 days, the Laconic 2019 fest will witness a series of conference sessionsband performances as well as a couture show. The fest will conclude with a couture show at Taj, Jai Mahal Palace on March 3. It is well expected that the event will be attended by artisansdesigners, educatorsfashion enthusiastsphotographers, as well as fashion influencers.

The purpose of this event is to provide wider marketing avenues for the local artisansweavers and brands thereby helping them to grow their business. Furthermore, it will also be a pragmatic learning platform for the youth.

Read More on AapnoJodhpur.com

Falgun 2019

हिंदू पंचाग का अंतिम माह फाल्गुन, जानिए प्रमुख त्योहार और महत्व – AapnoJodhpur.com

23/02/2019 in Development

Falgun 2019 बुधवार 20 फ़रवरी से प्रारम्भ हो गया है। फाल्गुन महीना, हिंदू पंचांग का बारहवां और आखिरी महीना होता है और उत्सव के उल्लास से भरा हुआ रहता है। यह महीना भगवान शिवभगवान श्री कृष्ण और चंद्रदेव के उपासना का हैं। फाल्गुन महीने में महाशिवरात्रि और होली जैसे महत्वपूर्ण और बड़े त्योहार मनाए जाते हैं। फाल्गुन माह की समाप्ति 21 मार्च 2019 गुरुवार को होगी।

हिन्दू कैलेण्डर के हिसाब से इस बार महाशिवरात्रि 4 मार्च को, वहीं होलिका दहन 20 मार्च को और 21 मार्च को होली खेली जाएगी। इसकी के साथ ही फाल्गुन महीना खत्म हो जाएगा और हिन्दू कैलेण्डर का पहला महीना चैत्र शुरू हो जाएगा।

फाल्गुन ईस्वी कलेंडर के अनुसार फ़रवरी- मार्च माह में पड़ता है, इसे वसंत ऋतु का महीना भी कहा जाता है, क्योंकि इस समय भारत में न तो अधिक गर्मी होती है और न अधिक सर्दी। यह हिंदू वर्ष का अंतिम महीना होता है इसलिए अधिकांश धार्मिक वार्षिकोत्सव इसी माह में होते हैं।

Read More on AapnoJodhpur.com

Jaya Ekadashi 2019 Laxmi Narayan

जया एकादशी व्रत कथा, पूजन विधि और महत्व – AapnoJodhpur.com

19/02/2019 in Development

Jaya Ekadashi 2019: माघ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को जया एकादशी कहते है, जो सभी पापों को हरने वाली सबसे उत्तम और पुण्यदायी एकादशी मानी गई है। इस साल Jaya Ekadashi 2019शनिवार 16 फरवरी को है। हर मास में शुक्ल और कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि का व्रत करने से कई गुना पुण्य की प्राप्ति होती है और व्रती को मोक्ष प्राप्त होता है। जया एकादशी के दिन सर्वेश्वर भगवान विष्णु की खास पूजा-अर्चना की जाती है। जया एकादशी व्रत करने से ना केवल कष्ट दूर होता है, बल्कि नकारात्‍मक ऊर्जा से युक्त दिमाग को भी शांति मिलती है।

माना जाता है जया एकादशी का व्रत और भगवान श्रीविष्णु की विधिवत पूजा करने से सभी पाप नष्ट हो जाते हैं और व्रती को भूत, प्रेत, पिशाच जैसी योनियों में नहीं भटकना पड़ता। जया एकादशी का व्रत करने से मनुष्यों को परम् मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस एकादशी पर व्रत और पूजा पाठ करने से ब्रह्महत्या जैसे- पापों से भी मुक्ति मिलती है और हर कार्य में विजय मिलती है। यहां जानिए जया एकादशी व्रत का महत्व, पूजा विधि, व्रत कथा, पारण का समय और शुभ मुहूर्त के बारे में।

READ More on AapnoJodhpur.com

Magh Poornima 2019

Magh Purnima 2019: माघ पूर्णिमा व्रत कथा, पूजन विधि, महत्व – AapnoJodhpur.com

19/02/2019 in Development

Magh Purnima 2019: हिंदी कैंलेंडर के माघ महीने में मनाई जाने वाली पूर्णिमा को माघ पूर्णिमा (माघी पूर्णिमा) कहते हैं। हिंदू धर्म में माघ के महीने का धार्मिकऔर आध्यात्मिक दृष्टि से विशेष महत्व बताया गया है। मघा नक्षत्र के नाम से माघ मास का नाम पर पड़ा है, जिसका अर्थ होता है महान। इस बार माघ पूर्णिमा पर कई बड़े संयोग बन रहे हैं। यह अवसर विशेष फलदायीमोक्ष प्रदान करना वाला और समस्त मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाला है। इस बार Magh Purnima 201919 फरवरी मंगलवार को हैं.

ऐसी मान्यता है माघ पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु स्वयं गंगा नदी में स्नान करने आते हैं। इसलिए जो भी माघ पूर्णिमा के अवसर पर गंगा स्नान करता है उसको सभी तरह के पुण्य लाभ मिलते हैं। माघ पूर्णिमा में शुभ मुहूर्त में विधि अनुसार पूजन करने से से बैकुंठ की प्राप्ति होती है। द्मपुराण के अनुसार बाकी के महीनों में जप, तप और दान से भगवान विष्णु उतने प्रसन्न नहीं होते जितने कि वे माघ मास में स्नान करने से होते हैं। माघ मास स्नान के आलावा दान का विशेष महत्व है जिसमे तिलगुड़ और कंबल का विशेष पुण्य है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Valentin's Day Vs Indian Culture

Impact Of Valentine’s Day On Indian Culture – AapnoJodhpur.com

14/02/2019 in Development

14 FebruaryValentine’s Day is celebrated to express your love with someone special. Falling in love is one of the best and treasured experiences in human life. Love is the most universal emotion which does not require any specific language to express. Many people start thinking off, whether there is any impact of Valentine’s Day on Indian CultureValues and Respect.

This year Valentine Week has started from Thursday, on 7th February with Rose Day. But sometimes just looking toward western culture and follow that blindly may affect our Society and cultural values. Though one can fall in love at any age or at any time there are some occasions when people fall in love invariably. Valentine’s Day is one such day when the whole world joins hands to make you fall in love!!

Read More on Valentine’s Day on AapnoJodhpur.com

बसंत पंचमी पूजा-विधि, मंत्र और महत्व – AapnoJodhpur.com

11/02/2019 in Development

Basant Panchami 2019माघ मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को बसंत पंचमी मनाई जाती है। बसंत पंचमी (Basant Panchami) का दिन मां सरस्वती (Saraswati) को समर्पित होता है। इस दिन विद्या की देवीवीणावादिनी मां सरस्वती का जन्‍म हुआ था। माता सरस्वती को ज्ञानसंगीत और कला की देवीमाना जाता है। बसंत पंचमी को श्री पंचमी (Shri Panchami) और सरस्वती पंचमी (Saraswati Panchami) भी कहा जाता है। इस वर्ष Basant Panchami 2019, रविवार, 10 फरवरी को है।

वहीं, कुछ लोग बसंत पंचमी के दिन प्रेम के देवता कामदेव (Kamadeva) की भी पूजा करते हैं। हिन्दू मान्यता के अनुसार, विद्या की देवी सरस्वती के अवतरण का यह दिवस ऋतु परिवर्तन का संकेत भी है। Basant Panchami marks the beginning of the spring season – Basant means spring and Panchami means “the fifth day”. बसंत पंचमी के दिन से ही बसंत ऋ‍तु प्रारंभ होती है। बसंत पंचमी के बाद से ही हर तरफ हरियाली नज़र आती है और प्रकृति की खूबसूरती निखर जाती है।

Read more on AapnoJodhpur.com

Valentine Week 2019, 8 Days To Express Your Love: AapnoJodhpur.com

08/02/2019 in Development

Valentine Day is celebrated all over the world on February 14, every year to express your love with someone special. Valentine Week 2019has started from Thursday, on 7th February with Rose DayValentine Week is celebrated mainly among the youngsters with great joy, excitement and enthusiasm who are in Love, relationship and friendship.

You get to enjoy eight days during Valentine’s week, which includes Rose dayPropose DayChocolate DayTeddy DayPromise DayHug Day, and Kiss Day followed by the big day – Valentine Day!

The celebration of Valentine’s Day in India began to become popular following economic and social liberalisation. The various social and religious group have condemned Valentine Day as an unwelcome influence of Western culture on our Indian traditional culture. Some also consider this a scam by corporations for their economic gain, as India is a supermarket for their business.

Check More on Valentine Week on AapnoJodhpur.com

Valentine Week 2019, 8 Days To Express Your Love: AapnoJodhpur.com

08/02/2019 in Development

Valentine Day is celebrated all over the world on February 14, every year to express your love with someone special. Valentine Week 2019has started from Thursday, on 7th February with Rose DayValentine Week is celebrated mainly among the youngsters with great joy, excitement and enthusiasm who are in Love, relationship and friendship.

You get to enjoy eight days during Valentine’s week, which includes Rose dayPropose DayChocolate DayTeddy DayPromise DayHug Day, and Kiss Day followed by the big day – Valentine Day!

The celebration of Valentine’s Day in India began to become popular following economic and social liberalisation. The various social and religious group have condemned Valentine Day as an unwelcome influence of Western culture on our Indian traditional culture. Some also consider this a scam by corporations for their economic gain, as India is a supermarket for their business.

Check More on Valentine Week on AapnoJodhpur.com

Gupt Navratri 2019

जानिए क्या है माघ गुप्त नवरात्रि, पूजा विधि, महत्व – AapnoJodhpur.com

05/02/2019 in Development

Magh Gupt Navratri 2019 Date: नवरात्र (Navratri) यानि मां भगवती के नौ रूपों, नौ शक्तियों की पूजा के वो दिन जब मां हर मनोकामना पूरी करती है। हिंदू कैलेंडर के मुताबिक हर साल चैत्र और शारदीय नवरात्र होते हैं जिनमें लोग पूरी श्रद्धा के साथ घट स्थापना करते हैं लेकिन इन दोनों नवरात्रि के अलावा दो और नवरात्रि आते हैं – ये गुप्त नवरात्रि हैं, एक माघ महीने में और दूसरा आषाढ़ महीने में। यह चारों ही नवरात्र ऋतु परिवर्तन के समय मनाए जाते हैं।

शक्ति की साधना के लिए चैत्र या वासंतिक नवरात्र एवं आश्विन या शारदीय नवरात्र के बारे में हम सभी जानते हैं लेकिन इसके अलावा भी साल में दो बार एक विशेष कालखंड में तमाम तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति और सिद्धि, धन, ऐश्वर्या, सुख, शांति के लिए मां जगदंबे की साधना-आराधना की जाती है। जिसे गुप्त नवरात्रि कहा जाता है। इस दौरान रात के समय मां दुर्गा की गुप्त पूजा की जाती है।

Click Here for More Information on माघ गुप्त नवरात्रि

Shattila Ekadashi 2019

Shattila Ekadashi 2019: षटतिला एकादशी व्रत कथा, पूजा-विधि और महत्व – AapnoJodhpur.com

31/01/2019 in Development

Shattila Ekadashi 2019: माघ महीने की कृष्ण पक्ष की एकादशी को षटतिला एकादशी कहते हैं, इस दिन काले तिलों के दान का विशेष महत्व होता है। षटतिला एकादशी (Shattila Ekadashi) हिंदू धर्म में बेहद ही खास मानी जाती है। इस बार Shattila Ekadashi 201931 जनवरी, गुरुवार को है और 1 फरवरी को दान-दक्षिणा के बाद व्रत खोला जाएगा। मान्यता है कि इस एकादशी का व्रत और दान करने से सारी मनोकामना पूर्ण होती हैं। षटतिला एकादशी (Shattila Ekadashi) के दिन भगवान विष्णु की खास पूजा-अर्चना की जाती है।

हर महीने में 2 बार एकादशी आती है। लेकिन इनमें से कुछ एकादशी का खास महत्व होता है। उन्ही खास एकादशी में से एक है षटतिला एकादशी भी जो माघ महीने में आती है। इस एकादशी (Ekadashi) में तिल का भी बेहद खास महत्व है. पूजा से लेकर दान करने और हवन करने तक, हर चीज़ में तिल का इस्तेमाल किया जाता है. यहां जानिए षटतिला एकादशी (Shattila Ekadashi) का महत्व, पूजा विधि, व्रत कथा, पारण का समय और शुभ मुहूर्त के बारे में.

Read More on AapnoJodhpur.com

Swachh Survekshan 2019

Swachh Survekshan 2019: Swachh Bharat Abhiyan’s Platform To Check Cleanliness Of The City – AapnoJodhpur.com

30/01/2019 in Administration, Environment

Swachh Survekshan 2019 is a kind of opinion poll which let us know about the cleanliness of the city. We, the proud Citizens, need to focus and work hard for Swachhta Abhiyan. If we follow Citizen Duties for Swacch Survekshan 2019 and cleanliness then we can take our city to improve its ranking quickly in Swachh Survekshan 2019 survey.

The survey is conducted by the Minister of Housing and Urban Affairs (MoHUA), as a prelude to encourage cities to improve urban sanitation. Started with the 73 cities the Swachh Survekshan was first processed in 2016 and then the number of cities has started joining this survey. In 2017, it surveyed 434 cities and in the last year 2018, it goes up for 4,203 cities.

Click Here for More Details on AapnoJodhpur.com

70th Republic Day celebrations

70th Republic Day: All You Need To Know Indian Republic Day Special Celebrations – AapnoJodhpur.com

26/01/2019 in Administration

EqualitySecularity and Liberty are the essential words that were added to the backbone of India on 26th January 1950. It was that day when India became Republic. Today, we Indians celebrate this very special day on Saturday, as 70th Republic day. The citizens of India celebrate Republic day with great zeal and pride to honour the Constitution of India. The patriotic songs such as वन्दे मातरम, सारे जहाँ से अच्छा .. echoes in the air. On this day, the Indian Government declare the National Holiday.

Prime Minister Narendra Modi will lay a floral wreath at the Amar Jawan Jyoti and President Ram Nath Kovind will hoist the flag at 7.00 am after which the 70th Republic Day parade will kick off from Rajpath at 9.50 am.

India doesn’t forget to practice its “Athiti Devo Bhawa” motion on Republic Day. That’s the reason various prominent personalities are invited from different countries to be the guest and a part of the spectacular Republic day celebration. This year, the President of South Africa Cyril Ramaphosa is invited as the Chief Guest of the day.

Click for More Information on AapnoJodhpur.com

Til Chaturthi

Til Chaturthi 2019: ‘तिल चतुर्थी’ सकट चौथ व्रत की विधि, मुहूर्त, कथा और महत्व – AapnoJodhpur.com

24/01/2019 in Development

Til Chaturthi 2019: हिंदू संस्कृति में व्रत और त्यौहारों का खास महत्व है। हर महीने कोई ना कोई व्रत होता है और हर व्रत का अपना अलग महत्व है। इन्ही पर्वों में खास है तिल चतुर्थी का पर्व, जिसे सकट चौथवक्रतुंडी चतुर्थीमाघी चौथसंकष्टी चतुर्थी और तिलकुटा चौथ के नाम से भी पुकारा जाता है। माघ मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है तिल चतुर्थी व्रत। Til Chaturthi 2019 24 जनवरी, गुरुवार को है। इस दिन भगवान श्रीगणेश की पूजा की जाती है और उन्हें तिल से बने पकवानों का भोग लगाया जाता है। इस दिन महिलाएं अपने बेटे की लंबी आयु की कामना के लिए निर्जला व्रत रखती हैं।

हिन्दु कैलेण्डर में हर महीने दो बार चतुुर्थी होती है अमावस्या के बाद आने वाली शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी तो वही पूर्णिमा के बाद आने वाली कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी के नाम से जाना जाता है। इनमें सबसे खास होती है माघ महीने की संकष्टी चतुर्थी जिसका बेहद ही खास महत्व माना जाता है। इस दिन भगवान गणेश और चंद्रमा की उपासना की जाती है। कहते हैं कि इस दिन व्रत रखने से रिद्धि-सिद्धि तो मिलती है साथ ही जीवन में आने वाले संकट भी दूर होते हैं।

Read More on AapnoJodhpur.com

Places to visit in Jodhpur during winter season

8 Places To Visit In Jodhpur During The Winter Season – AapnoJodhpur.com

22/01/2019 in Tourism

Jodhpur, also known as Sun City, is the jewel of Rajasthan. Winters are always a good season to travel, explores new venues and when it comes to Jodhpur the trip becomes more excited. The best season to visit Jodhpur is the Winter season when the temperature ranges from7 degree Celsius to 27 degree Celsius. Here, we are sharing some places to visit in Jodhpur during the winter season.

One of the most popular destinations of the royal state of Rajasthan, Jodhpur, also known as the ‘Blue City’, founded in the year 1459 by Rao Jodha. A treasure house of manicured gardens, placid lakes, expansive Thar Desert, ancient temples, magnificent palaces, regal forts, local Bazaars and more to visit in Jodhpur during the winter season.

Click Here for More Information on AapnoJodhpur.com

IPL 2019

Mightier Cricket Tournament IPL 2019 To Be Held In India Only From March 23 – AapnoJodhpur.com

19/01/2019 in Sports

Indian Premier League (IPL) 2019 is going to be bigger, better and mightier as all cricket lovers can find this out. This time that there will be a clash of IPL 2019 schedule with the General Elections Dates in India. The Lok Sabha Election in India is set to take place between April and May which led to speculation that the tournament might have been played elsewhere. The Board of Control for Cricket in India (BCCI)have confirmed that the IPL 2019 will be held in India and will begin from March 23, 2019.

There is only one full season of IPL which was played outside the country – this was in 2009 when Deccan Chargers won the match against Royal Challengers Bangalore (RCB) in Wanderers Stadium, Johannesburg (South Africa). In 2014, the first half of the IPL season was moved to UAE due to date clashed with General Election.

Read More Information on AapnoJodhpur.com

Paush Putrada Ekadashi 2019

Putrada Ekadashi 2019: पौष पुत्रदा एकादशी व्रत कथा, पूजा-विधि और महत्व – AapnoJodhpur.co.in

17/01/2019 in Development

Putrada Ekadashi 2019: पौष मास में शुक्ल पक्ष एकादशी को पुत्रदा एकादशी का व्रत रखा जाता है। माना जाता है कि इस चर और अचर संसार में इस एकादशी के व्रत के समान दूसरा कोई व्रत नहीं है। ऐसी मान्यता है कि जिन्हें संतान होने में बाधाएं आती हैं उन्हें पुत्रदा एकादशी का व्रत जरूर रखना चाहिए। इस उपवास को रखने और पूजन के प्रभाव से संतान संबंधी हर चिंता और समस्या का निवारण हो जाता है। यही कारण है कि इस व्रत को पुत्रदा एकादशी व्रत के नाम से संबोधित किया जाता है। इस बार Putrada Ekadashi 2019, 17 जनवरी, गुरुवार को है।

नि:संतान दंपती के लिए यह व्रत काफी लाभदायक बताया गया है। ऐसी मान्यता है कि इस व्रत से योग्य संतान की प्राप्ति होती है और मृत्यु के बाद स्वर्ग में स्थान प्राप्त होता है। व्रत के फलस्‍वरूप भगवान संतान के आरोग्‍य का वरदान देते हैं और उनके लिए सफलता का मार्ग भी प्रशस्‍त करते हैं। हिंदु मान्यताआें के अनुसार हर एकादशी की तरह इस दिन भी भगवान विष्णु की पूजा की जाती है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Mirchi bada

10 Famous Breakfasts Of Jodhpur In Winter – AapnoJodhpur.com

16/01/2019 in Healthcare

The Blue City of Rajasthan, Jodhpur, is a city of traditions, culture, heritage and food lovers. Rajasthan’s second largest city after its capital Jaipur, Jodhpur is everything you’d expect. Oh, and it’s home to some fantastic options for breakfast too; think classic north Indian flair mixed with a dash of international favourites. We here present famous breakfasts of Jodhpur, especially taken in this loving winter season.

Jodhpur is another name For Food Lovers. In the proper language of Marwadi, The Foodie or The Food Lovers are known as The खावनखंडा’. And they eat and take proper joy while eating. They eat their Food with full Love and Enjoyment even they used to serve their Guests with the same अपनत्व and Enthusiasm. The Way of Showing Love is very different in Jodhpur.

Every Good Meal starts with the Engine of the meal that is Breakfast. So here, by presenting the List of Famous Breakfasts of Jodhpur prepared in the Homes/Shops of Jodhpur in Morning.

Click Here for Complete Information on Jodhpur’s B’Fast

Makar Sankranti 2019: मकर संक्रांति पुण्यकाल मुहूर्त, विधि, मंत्र और महत्व – AapnoJodhpur.com

14/01/2019 in Development

Makar Sankranti 2019: मकर संक्रांति के दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है। इसी वजह से इस संक्रांति को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है। मकर संक्रांति का पर्व इस बार यानी साल 2019 में 14 जनवरी की बजाए 15 जनवरी को मनाया जा रहा है। 15 जनवरी से मलमास (खरमास) और अशुभ समय समाप्त हो जाएगा और विवाह, ग्रह प्रवेश आदि शुभ कार्य शुरू हो जाएंगे।

मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2019) को दक्षिण भारत में पोंगल (Pongal) के नाम से जाना जाता है। गुजरात और राजस्थान में इसे उत्तरायण (Uttarayan) कहा जाता है। गुजरात में मकर संक्रांति के दौरान खास अंतरराष्ट्रीय पतंग महोत्वस (International Kite Festival) भी होता है। वहीं, हरियाण और पंजाब में मकर संक्रांति को माघी (Maghi) के नाम से पुकारा जाता है। इसी वजह से इसे साल की सबसे बड़ी संक्रांति (Sankranti) कहा गया है, क्योंकि यह पूरे भारत में मनाई जाती है। मकर संक्रान्ति बसंत ऋतु के आगमन का सूचक है।

Read More on AapnoJodhpur.com

IIT Jodhpur

IIT Jodhpur M.Tech Admission Procedure For 2019-21 Session – AapnoJodhpur.com

12/01/2019 in Education

IIT Jodhpur (IITJ) will start the admission process for its MTech programme in the third week of March 2019. The IIT Jodhpur M.Tech admission will be based on the valid GATE score and final selection will be based on the performance of the candidates in Personal Interview (PI) and other selection rounds.

The postgraduate programme M.Tech courses offered by IIT Jodhpur not only provide theoretical knowledge to students but also enlighten them to fit the industry needs. IIT Jodhpur provides hands-on training and practical exposure which helps the students to match the industry requirements and secure lucrative jobs.

In this article, we will let you know about the various M.Tech programmes offered, the eligibility criteria, important dates for IITJ M.Tech admission, selection procedure, application form and the fees for IIT Jodhpur M.Tech admission. Eligible and interested candidates should read carefully the eligibility criteria and other details of the IIT Jodhpur postgraduate engineering admission and apply before the last date.

Click Here for More Information on AapnoJodhpur.com

Swine Flu

स्वाइन फ्लू का कहर: Swine Flu Symptoms, Vaccine And Treatment – AapnoJodhpur.com

11/01/2019 in Environment, Healthcare

H1N1 इन्फ्ल्यूएंजा (Influenza) या Swine Flu 4 वायरस के कारण होता है। Swine Flu virus is originated from pigs ‘सूअर‘ and now spreads from person to person. इसी वजह से मीडिया ने Swine Flu ‘स्वाइन फ्लू’ को  ‘सुअर फ्लू‘ का नाम भी दिया है। यह पहले भी भारत में 20092015 में जानवरों और इंसानो के लिए घातक था और उन्हें प्रभावित किया था।

अभी भी यह फ्लू महामारी की तरह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में तेजी से फैल रहा है। नमी के कारण स्वाइन फ्लू का वायरस और घातक हो जाता है और यह तेजी से फैलने लगता है। यही वजह है कि मौसम बदलने के साथ स्वाइन फ्लू भी लोगों में बढ़ जाता है । यदि 2-3 दिन में खांसी और बुखार ठीक न हो, तो H1N1 की जांच अवश्य कराएं। स्वाइन फ्लू का वायरस हवा में फैलता है और खांसने (coughing), touching a contaminated surface and then rubbing eyes or nose, छींकने (sneezing) and थूकने से सेहतमंद लोगों तक पहुंच जाता है।

राजस्थान प्रदेश में बेकाबू हो रहे स्वाइन फ्लू का कहर लगातार जारी है| स्वाइन फ्लू पॉजिटिव मरीजों की संख्या प्रदेश में बढ़कर हुई 507 हो गई है| अभी तक जोधपुर में 252 लोगों का टेस्ट हो चुका हैं, जिनमें से 99 लोगो के पॉजिटिव रिजल्ट हैं | वहीं स्वाइन फ्लू पॉजिटिव मरीजों की संख्या प्रदेश में बढ़कर हुई 507 हो गई है|

Read More Details on AapnoJodhpur.com

Rajasthan Assembly

15th Rajasthan Assembly Chief Minister And Elected Members – AapnoJodhpur.com

26/12/2018 in Administration, Vidhan Sabha

The 15th Rajasthan assembly elections have finally been wrapped in its final step with the oath-taking ceremony of the new Chief Minister Ashok Gehlot on December 17. The newly elected Rajasthan assembly has more crorepatis MLA as members. Compared to the previous assembly, this time more members are elected which have pending criminal cases.

Rajasthan Election Watch and Association for Democratic Reforms (ADR) have analysed affidavits of newly elected 199 MLAs out of 200 assembly seats in the Rajasthan 2018 elections. Polling to Ramgarh constituency has been deferred following the death of Laxman Singh, the Bahujan Samaj Party (BSP) candidate before the elections.

15th Rajasthan Assembly Chief Minister

Mr Gehlot is serving as the Chief Minister of Rajasthan state for the third time. Gehlot has been in politics from last forty-seven years. In the assembly, he is representing the Sardarpura constituency seat of Jodhpur for the fifth time in the assembly. He was also in Central Ministry for two times. Gehlot seems to be very lucrative for the Jodhpur city; and why not the city is his hometown.

During his last tenure of chief ministership, Jodhpur become the education hub as many top institutes like Indian Institute of Technology (IIT Jodhpur), All Indian Institute for Medical Sciences (AIIMS Jodhpur), Footwear Design and Development Institute (FDDI), National Law University (NLU), Ayurved University, National Institute for Fashion and Technology (NIFT) and Sardar Patel Police University were planned and started.

Click Here for More Information on AapnoJodhpur.com

RBSE Board Exam Time table

RBSE Board Exam Timetable For Class 10th And 12th Announced – AapnoJodhpur.com

24/12/2018 in Education

The Rajasthan Board of Secondary Education (RBSE)Ajmer has released the RBSE Board Exam Timetable 2019 for class 12th and class 10th. As per the schedule, the Senior Secondary Exams would begin from March 7 and Secondary Exams from March 14.

The RBSE has followed its 40 years of custom to start the exam from ThursdayClass 12th board exam will begin with compulsory Englishsubject and continue with the optional papers in the stream of HumanitiesCommerce and Science subjects.

Exams of Science Stream will be over on March 25 but other optional exams of the subject of Humanities and Commerce will go till April 2. This will benefit the Science Students as they will get extra time to prepare for different entrance examinations for further professional programmes.

Similarly, class 10th board exam will begin with English subject on March 14, 2019, and continue till March 27 with Social Studies as the last exam paper.

Click Here for More Information on AapnoJodhpur.com

Malmas effects on Rashi

मलमास का प्रभाव: जानें किस राशि पर क्या होगा मलमास 2018-19 का असर – AapnoJodhpur.com

21/12/2018 in Development

मलमास का प्रभाव: ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सूर्य हर 30 दिन यानि एक महीने बाद राशि परिवर्तन करता है। 12 महीनों में यह 12 राशियों पर विचरण करता है और जब यह धनु और मीन राशि पर जाता है, तब उन महीनों को मलमास कहा जाता है। धनु मलमास एक महीने तक रहेगा। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार जानिए किस राशि पर क्या पड़ेगा मलमास का प्रभाव

हिन्दू धर्म में हर माह का अपना एक अलग और विशेष महत्व है, इसके अलावा शुभ-अशुभ जैसी बातों का भी विशेष ध्यान रखा जाता है। 16 दिसंबर 2018 मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की नवमी से सूर्य देव, गुरू बृहस्पति की राशि धनु में प्रवेश के साथ ही धनु मलमास यानी खरमास लग गया। शास्त्रों में मलमास को दूषित महीना माना जाता है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Mokshada Ekadashi 2018

Mokshada Ekadashi 2018: मोक्षदा एकादशी व्रत कथा, पूजा-विधि और महत्व – AapnoJodhpur.com

18/12/2018 in Development

Mokshada Ekadashi 2018मार्गशीर्ष मास में शुक्ल एकादशी को रखा जाता है मोक्षदा एकादशी का व्रत। यह व्रत करने से मनुष्यों के सभी प्रकार के पाप नष्टहो जाते हैं और साथ ही व्रती और उसके पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है, इसलिए इसका नाम मोक्षदा एकादशी है। ऐसा कहा जाता है कि मोक्षदा एकादशी के दिन कुरुक्षेत्र में भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को श्रीमद्भगवद्गीता का उपदेश दिया था। यही वजह है मार्गशीर्ष शुक्लपक्ष एकादशी के दिन ही गीता जयंती भी मनाई जाती है।

मान्यता है कि इस एकादशी (Ekadashi) के दिन व्रत रखने से पूर्वजों के लिए स्वर्ग के द्वार खुल जाते हैं। मार्गशीर्ष माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी को ही भगवान कृष्ण ने अर्जुन को गीता का उपदेश दिया था।

हिंदू धर्म में माना जाता है कि मोक्ष प्राप्त किए बिना मनुष्य को बार-बार इस संसार में आना पड़ता है। मोक्ष की इच्छा रखने वाले प्राणियों के लिए मोक्षदा एकादशी व्रत रखने की सलाह दी गई है। इस दिन भगवान विष्णु की आराधना की जाती है।

To read More Click Here to Access AapnoJodhpur.com

Malmaas 2018

मलमास में क्या करें क्या ना करें, क्यों एक माह नहीं होंगे शुभ कार्य? – AapnoJodhpur.com

16/12/2018 in Development

16 दिसंबर 2018 मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की नवमी से मलमास शुरु हो जाएगा और 14 जनवरी 2019 पौष शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि तक रहेगा। मलमास को खरमास भी कहा जाता है। मलमास में जप, तप, तीर्थ यात्रा, कथा श्रवण का बड़ा महत्व होता है।

सूर्य 16 दिसम्बर 2018 रविवार को प्रातः 9ः05 बजे धनु राशि में प्रवेश करेंगे। धनु संक्रांती के साथ धनु (खर) मास आरम्भ होगा और सूर्य 14 जनवरी 2019 को सायं 08:00 बजे मकर राशि में प्रवेश करेंगे। इसके साथ ही धनु (खर मास) की समाप्ति होगी।

मलमास के प्रतिनिधि आराध्य देव भगवान विष्णु हैं। इसलिए इस माह के दौरान भगवान विष्णु की पूजा नियमित रूप से करना चाहिए। इस मास में पड़ने वाली एकादशी तिथि को उपवास कर भगवान विष्णु की विधि-विधान से पूजा कर उन्हें तुलसी के पत्तों के साथ भोग लगाने से समस्त सुखों की प्राप्ति होती है।

Read More for Malmaas on AapnoJodhpur.com

Vivaah Panchmi 2018

Vivah Panchami 2018 महत्व: इसी दिन हुआ था भगवान श्रीराम और सीता माता का विवाह – AapnoJodhpur.com

12/12/2018 in Development

Vivah Panchami 2018: भारत में कई स्थानों पर विवाह पंचमी को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। मार्गशीर्ष मास यानी अगहन महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी को भगवान श्री राम और जनकपुत्री जानकी जी का विवाह हुआ था। तभी से इस पंचमी को ‘विवाह पंचमी पर्व‘ के रूप में मनाया जाता है। Vivah Panchami 2018, 12 दिसंबर बुधवार को है।

भगवान राम को चेतना और मां सीता को प्रकृति का प्रतीक माना जाता है। ऐसे में दोनों का मिलन इस सृष्टि के लिए उत्तम माना जाता है। इस कारण इस दिन का महत्व और भी बढ़ जाता है। ऐसी मान्यता है कि विवाह पंचमी के दिन खास मंत्रों का जाप करने से विवाह में आ रहे विघ्न समाप्त हो जाते हैं और शीघ्र विवाह का योग बनता है। यह त्यौहार नेपाल में विशेष रूप से मनाया जाता है क्योंकि सीता माता मिथिला नरेश राजा जनक की पुत्री थी।

राम सीता के विवाह के सालगिरह के कारण आज विवाह का शुभ दिन है। Vivah Panchami 2018 को चंद्रमा मकर राशि में रहेंगे। मकर का स्वामी ग्रह शनि है। श्रवण का स्वामी शनि है। इसका नक्षत्र मंडल में 22 वां स्थान है। इसमें राजा का राज्याभिषेक तथा विवाह संस्कार शुभ माने जाते हैं। सूर्य का वृश्चिक, चंद्र का मकर तथा इस दिन श्रवण नक्षत्र का होना बहुत ही शुभ है। आज कोई अभिजीत मुहूर्त नहीं मिलेगा। इस दिन विवाह करने से कन्या का सुहाग अखंड रहता है। राहु काल को छोड़कर पूरे दिन कोई भी शुभ कार्य कर सकते हैं।  

Read More on AapnoJodhpur.com

Vivaah Panchmi 2018

Vivah Panchami 2018 महत्व: इसी दिन हुआ था भगवान श्रीराम और सीता माता का विवाह – AapnoJodhpur.com

12/12/2018 in Development

Vivah Panchami 2018: भारत में कई स्थानों पर विवाह पंचमी को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। मार्गशीर्ष मास यानी अगहन महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी को भगवान श्री राम और जनकपुत्री जानकी जी का विवाह हुआ था। तभी से इस पंचमी को ‘विवाह पंचमी पर्व‘ के रूप में मनाया जाता है। Vivah Panchami 2018, 12 दिसंबर बुधवार को है।

भगवान राम को चेतना और मां सीता को प्रकृति का प्रतीक माना जाता है। ऐसे में दोनों का मिलन इस सृष्टि के लिए उत्तम माना जाता है। इस कारण इस दिन का महत्व और भी बढ़ जाता है। ऐसी मान्यता है कि विवाह पंचमी के दिन खास मंत्रों का जाप करने से विवाह में आ रहे विघ्न समाप्त हो जाते हैं और शीघ्र विवाह का योग बनता है। यह त्यौहार नेपाल में विशेष रूप से मनाया जाता है क्योंकि सीता माता मिथिला नरेश राजा जनक की पुत्री थी।

राम सीता के विवाह के सालगिरह के कारण आज विवाह का शुभ दिन है। Vivah Panchami 2018 को चंद्रमा मकर राशि में रहेंगे। मकर का स्वामी ग्रह शनि है। श्रवण का स्वामी शनि है। इसका नक्षत्र मंडल में 22 वां स्थान है। इसमें राजा का राज्याभिषेक तथा विवाह संस्कार शुभ माने जाते हैं। सूर्य का वृश्चिक, चंद्र का मकर तथा इस दिन श्रवण नक्षत्र का होना बहुत ही शुभ है। आज कोई अभिजीत मुहूर्त नहीं मिलेगा। इस दिन विवाह करने से कन्या का सुहाग अखंड रहता है। राहु काल को छोड़कर पूरे दिन कोई भी शुभ कार्य कर सकते हैं।  

Read More on AapnoJodhpur.com

Forbes Top celebrity in India

Salman Khan Tops Again In Forbes India Celebrity List 2018 – AapnoJodhpur.com

09/12/2018 in Development

Dabangg Khan has done it again, topped the Forbes India Celebrity List 2018 for the third year in a row while other major superstars like A.R. RahmanRajnikantRanbir Kapoor and Anushka Sharma listed on 11, 14, 17, 16 respectively. The 52-year-old Bollywood with earnings of Rs 253.25 crore through his blockbuster films, many brand endorsements and television projects, Salman Khan becomes the country’s highest paid celeb for the third consecutive year in Forbes India Celebrity List 2018.

Recently wedded Bollywood actress Deepika Padukone has become the first woman to feature in the top 5 of this list ever since it was created in 2012. She has been featured at No. 4, with Rs 112.8 crore earnings through blockbuster Padmaavat and her many brand endorsements. She became the highest-earning woman celebrity in India and Highest paid actress of the Bollywood industry.

The Thugs of Hindostan which sank at the box office, Aamir Khan and Amitabh Bachchan are also among the top ten with earnings of Rs. 97.5 crore and Rs. 96.17 crore, respectively. The Shahenshah of Bollywood Amitabh Bachchan is listed 7th in this list.

Read More on AapnoJodhpur.com

Margashirsha Amavasya

Margashirsha Amavasya 2018: मार्गशीर्ष अमावास्या का महत्व, पूजा करने से दूर होता है पितृ दोष – AapnoJodhpur.com

07/12/2018 in Development

Margashirsha Amavasya 2018मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्या या श्राद्धादि अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है। मार्गशीर्ष महीने के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को मार्गशीर्ष अमावस्या कहते हैं। मार्गशीर्ष माह में मां लक्ष्मी की खास पूजा होती है। Margashirsha Amavasya 2018, 7 दिसंबर को है। हिन्दू धर्म में अमावस्या का खास महत्व है। मार्गशीर्ष अमावस्या के दिन पितरों के कार्य विशेष रूप से किए जाते हैं तथा यह दिन पूर्वजों के पूजन का दिन माना गया है।

जिस प्रकार पितृपक्ष की अमावस्या को सर्वपितृ अमावस्या के रूप में मनाया जाता है, ठीक उसी प्रकार कहा जाता हैं कि मार्गशीर्ष माह की अमावस्या के दिन पितरों के निमित्त व्रत रखने और जल से तर्पण करके सारे पितरों को प्रसन्न किया जा सकता हैं। पौराणिक शास्त्रों  के अनुसार इस दिन पूजा करने से पितृदोष का निवारण होता है और पूर्वजों का आशीर्वाद परिवार पर बना रहता है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Rajasthan election 2018 politicians

Rajasthan Elections 2018: 320 With Criminal Cases, 597 Crorepati And 12 Illiterate Candidates – AapnoJodhpur.com

07/12/2018 in Vidhan Sabha

Rajasthan Elections 2018 polling date is 07 December 2018 and its high time for voters to choose best for them. According to the Rajasthan Election Watch (REW) and the Association for Democratic Reforms (ADR), More candidates with criminal and serious criminal cases are contesting the Rajasthan elections 2018 than the election held in 2013.

ADR and REW have released a report related to the education qualificationCriminal records and Assets of the candidates contesting Rajasthan assembly election 2018. They analyzed the self-sworn affidavits of 2,188 out of the 2,294 candidates contesting the elections. The affidavits of 106 candidates were not analysed properly as they were “either badly scanned or having incomplete information or affidavits were not uploaded properly on the election commission website”.

Click Here for More Information on AapnoJodhpur.com

Utpanna Ekadashi

Utpanna Ekadashi 2018: उत्पन्ना एकादशी व्रत व पूजा विधि, मुहूर्त, व्रत कथा एवं महत्व – AapnoJodhpur.com

03/12/2018 in Development

Utpanna Ekadashi 2018: अभी कृष्ण जी को प्रिय मार्गशीर्ष मास यानी अगहन मास चल रहा है। इस महीने की कृष्ण पक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशीका व्रत किया जाता है। Utpanna Ekadashi 2018 इस बार 3 दिसंबर को है। एकादशी का दिन भगवान विष्णु को समर्पित है।अगर एकादशी पर बाल गोपाल की पूजा की जाती है तो भक्त को भगवान की कृपा मिल सकती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इसी व्रत के प्रभाव से मोक्ष की प्राप्ति होती है।

एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को मिलाकर दो एकादशियां आती हैं। यह भी सभी जानते हैं कि इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इस बात को बहुत कम जानते हैं कि एकादशी एक देवी थी जिनका जन्म भगवान विष्णु से हुआ था। एकादशी मार्गशीर्ष मास की कृष्ण एकादशी को प्रकट हुई थी जिसके कारण इस एकादशी का नाम उत्पन्ना एकादशी पड़ा। इसी दिन से एकादशी व्रत शुरु हुआ था। हिंदू धर्म में एकादशी व्रत का बहुत अधिक महत्व माना जाता है इसलिये यह जानकारी होना जरूरी है कि एकादशी का जन्म कैसे और क्यों हुआ?

Click for More Information on AapnoJodhpur.com

Rajasthan Jodhpur Assembly election

जोधपुर महासंग्राम- विधान सभा चुनाव 2018 का महारण : AapnoJodhpur.com

02/12/2018 in Development

जोधपुर महासंग्राम  छिड़ चूका है, ये रण आगामी विधान सभा चुनाव क लिए है। दोनों मुख्य पार्टी – भाजपा और कॉंग्रेस ने अपनी कमर कस ली है और दोनों ही पार्टियां जोरो शोरो से प्रचार प्रसार कर विधान सभा चुनाव 2018 का महारण जीतने की कोशिश मे है।

बीजेपी और कांग्रेस के स्टार प्रचारक जोधपुर मे जगह जगह पर अपनी सभाएं कर रहे है वही निर्दलीय प्रत्याशी भी पीछे नहीं है। कांग्रेस के स्टार प्रचारक राहुल गाँधी ने जहां 26 नवंबर को जोधपुर में अपनी सभा आयोजित की वही बीजेपी के स्टार प्रचारक भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी 3 दिसंबर को जोधपुर में अपनी रैली और सभा का आयोजन करेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ये जोधपुर सभा की तैयारी का जायजा खुद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्य्क्ष अमित शाह ने लिया है।

Check More on AapnoJodhpur.com

Priyanka Chopra wedding

Priyanka Chopra Wedding: Jodhpur Is All Set To Welcome Groom Nick Jonas – AapnoJodhpur.com

01/12/2018 in Development

Our desi girl Priyanka Chopra and American Pop singer Nick Jonas are going to be the next celebrity couple to tie the knot in the year 2018, after Deepika-RanveerAnushka-Virat and Sonam-Anand. The royal place of Rajasthan, Jodhpur is a perfect pick as a venue for an equally royal wedding. The magnificent, majestic the Umaid Bhawan Palace is all set to hosts the country’s next most awaited Priyanka Chopra Wedding. As the ceremony gears near, fans want to grasp as much as information as they can.

No doubt that this palace has hosted high profile events in the past – Elizabeth Hurley and Arun Nayar’s wedding reception in 2007 and Naomi Campbell’s ex-boyfriend Vladimir Doronin’s 50th birthday, the Asia’s richest man Mukesh Ambani’s wife Nita Ambani’s birthday party and many more.

Get More Information on AapnoJodhpur.com

Jodhpur Polo Season 2018

19th Jodhpur Polo Season 2018 Begins From November 25 – AapnoJodhpur.com

25/11/2018 in Development

The 19th Jodhpur polo season 2018 begins at Maharaja Gaj Singh Sports Foundation Polo Ground, Air Force Road, Pabupura, from November 25 to December 31 under the auspices of Jodhpur Polo and Equestrian InstituteJodhpurMaharaja Gajsingh Ji is the chief patron of the event.

Colonel Ummed Singh, honorary secretary, Jodhpur Polo and Equestrian Institute, said that six tournaments and eight exhibition matches will be played in Jodhpur Polo season 2018. In Jodhpur polo season 2017, five tournaments and seven exhibition matches were played.

Jodhpur Polo Season 2018 Tournament Schedule

In Jodhpur Polo Season 2018, Umaid Bhawan Palace Cup 4 goal will be played from November 25 to 30, Hermes Cup 2 goal from 1 to 5 December, Jodhpur Polo Cup 4 Goal will be played from 6 to 10 December, H.H. Maharaja of Jodhpur Cup 8 Goal from 14-19 December, Rajputana and Central India Cup 10 Goal from 20 – 24 December and Maharaja of Jodhpur Golden Jubilee Cup 10 Goal will be held from 25 – 30 December.

Jodhpur Polo Season 2018 Exhibition Match Schedule

8 exhibition match will also be played in Jodhpur Polo Season 2018. Major Thakur Sardar Singh Jasol Memorial Cup presented by Thakur Jaswant Singh Ji will be played on 29th November, Jodhpur and Mundota Fort & Palace on December 12, BPD Vs Mayo College Ajmer on 13th December, another match on 13th December will be played between British Military Vs Jodhpur, Army Commander’s Cup presented by Army Commander Southern Command on 16 December, Abu Seir Cup Presented by Farouk Younes, F.I.P. Ambassador of Egypt on December 23, HH Maharaja Hanwant Singh Cycle Polo match on December 24, Bhanwar Baijilal Vara Raje Polo Cup on 25 December, Argentine Polo Match on 29 December.

Click Here for More Information on AapnoJodhpur.com

Kartik Purnima 2018: कार्तिक पूर्णिमा पूजा-विधि, महत्व और कथा – AapnoJodhpur.com

24/11/2018 in Development

Kartik Purnima 2018: कार्तिक मास में आने वाली पूर्णिमा के दिन कार्तिक पूर्णिमा (Kartik Purnima) मनाई जाती है। हिंदु धर्म में कार्तिक पूर्णिमा का विशेष महत्व है। इस दिन को काफी पवित्र माना जाता है। मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु की खास पूजा और व्रत करने से घर में यश और कीर्ति की प्राप्ति होती है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन दीपदान (Deepdan) और गंगा स्नान का बेहद महत्व है। Kartik Purnima 2018, 23 नवंबर को है। इस दिन गंगा स्‍नान करने से व्यक्ति के सभी जन्मों के पापों से मुक्ति मिलती है।

मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव ने राक्षस त्रिपुरासुर का वध किया था। इसी वजह से इसे त्रिपुरी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। इसी के साथ कार्तिक पूर्णिमा की शाम भगवान विष्णु का मत्स्य अवतार उत्पन्न हुआ था। मान्यता है कि गंगा स्नान के बाद किनारे दीपदान करने से दस यज्ञों के बराबर पुण्य मिलता है।

Click Here for More Information on AapnoJodhpur.com

AIIMS Jodhpur Recruitment: Apply Online For 101 Senior Residents Post – AapnoJodhpur.com

23/11/2018 in Employment

All India Institute of Medical SciencesJodhpur has invited applications for the post of Senior ResidentsAIIMS Jodhpur Rajasthan has released the notification ‘AIIMS Jodhpur Recruitment 2018‘ to fill 101 vacancies for the post of Senior Resident on its official website – aiimsjodhpur.edu.in. Eligible and interested candidates can apply online to the said post before the last date for AIIMS Jodhpur Recruitment of Senior Residents post i.e December 182018.

Only Indian Citizens are eligible to apply for the posts of Senior Residents. Interested and eligible candidates can apply online through the official website of AIIMS Jodhpur website w.e.f. 19th November 2018 as per the terms & conditions mentioned in the notification.

 

The last date for applying for the post of Senior Residents at AIIMS Jodhpur is 18th December 2018 (17:00 Hrs). Candidates should not send the hard copy of the online application or any document thereof. The below vacancies are provisional and subject to variation.

Click Here for More Information on AapnoJodhpur.com

Dev Uthani Ekadashi Tulsi Vivah

Dev Uthani Ekadashi 2018: तुलसी विवाह, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, कथा एवं महत्व – AapnoJodhpur.com

19/11/2018 in Development

Dev Uthani Ekadashi 2018: कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष एकादशी को देवउठनी एकादशी मनाई जाती है। इसी दिन भगवान विष्णु देवशयनी एकादशी के चार महीने विश्राम के बाद जागते हैं। इस एकादशी को प्रबोधनी या देवोत्थान एकादशी (Devutthana Ekadashi) भी कहते हैं। इस एकादशी पर शालिग्राम (भगवान विष्णु जी के रूप हैं) के साथ तुलसी जी (holy Basil) का विवाह होता है।  इस वर्ष Dev Uthani Ekadashi 2018 दिनांक 19 नवंबर दिन सोमवार को है। इस दिन भगवान विष्णु के जागने का आह्वान किया जाता है और माता लक्ष्मी सहित उनकी पूजा की जाती है।

हिंदू मान्यता के अनुसार दिवाली के बाद आने वाली एकादशी पर देव उठ जाते हैं। इस एकादशी से सभी शुभ व मांगलिक कार्य जो अब तक रुके हुए होते हैं, वे शुरू किए जा सकते हैं। इस एकादशी पर शालिग्राम के साथ तुलसी जी का विवाह होता है। कुछ लोग तुलसी विवाह द्वादशी के दिन करते हैं।

Get More Details on AapnoJodhpur.com

Amla Navami 2018: आंवला (अक्षय) नवमी पूजा विधि, पौराणिक कथा व महत्‍व – AapnoJodhpur.com

17/11/2018 in Development

Amla Navami 2018: कार्तिक मास  के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को आंवला नवमी मनाई जाती हैं। इसे बहुत से लोग अक्षय नवमी भी कहते हैं। इस दिन आंवले के पेड़ की पूजा की जाती है। इस बार (Amla Navami 2018) ये पर्व 17 नवंबरशनिवार को है। यह प्रकृति के प्रति आभार व्यक्त करने का भारतीय संस्कृति का पर्व है। मान्यता है कि इस दिन महिलाएं संतान प्राप्ति और उनकी मंगलकामना के लिए आंवले के पेड़ की पूजा करती हैं। मान्यता है कि इस दिन आंवले के पेड़ के नीचे बैठने और भोजन करने से रोगों का नाश होता है।

मान्यता है कि आंवला नवमी के दिन आंवले के वृक्ष में भगवान विष्णु एवं शिव जी का निवास होता है, यही वजह है कि इस दिन आंवले के पेड़ की पूजा करने का विधान है। ऐसा करने पर इंसान की सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है। एेसी मान्यता भी है कि इसी दिन से सतयुग का प्रारंभ हुआ था। आंवला नवमी को स्वर्ण, गांव तथा वस्त्र आदि दान देने से ब्रह्म हत्या जैसे महापाप से भी छुटकारा मिलता है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Gopashtami 2018

Gopashtami 2018: गोपाष्‍टमी पूजन विधि, पौराणिक कथा व महत्‍व – AapnoJodhpur.com

16/11/2018 in Development

Gopastami 2018: कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को गोपाष्टमी के रूप में मनाया जाता है। मान्यता है कि इसी दिन से भगवान श्री कृष्ण और बलराम ने गौ-चारण की लीला शुरू की थी। इस साल (Gopashtami 2018गौ अष्टमी, 16 नवंबर को मनाया जाएगा। हिन्दू मान्यताओं में गोपाष्टमी का बेहद महत्व है। विशेषकर ब्रजवासियों और वैष्णवों के लिए ये दिन पर्व है। इस दिन बछड़े सहित गाय का पूजन करने का विधान है।

पौराणिक मान्यता के अनुसार, कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा से लेकर सप्तमी तक भगवान श्रीकृष्ण ने गौ, गोप आैर गोपियों की रक्षा के लिए अपनी उंगली पर गोवर्धन पर्वत धारण किया था। आठवें दिन इन्द्र का अहंकार भंग हुआ आैर श्रीकृष्ण की शरण में आए तथा क्षमायाचना की। तब कामधेनु ने कृष्ण जी का अभिषेक किया। तभी से कार्तिक शुक्ल अष्टमी को गोपाष्टमी का उत्सव मनाया जा रहा है।

Check Complete Information on AapnoJodhpur.com

Future Fuel Hydrogen

Low Cost ‘Future Fuel’ Developed By IIT Jodhpur Using Water And Sunlight – AapnoJodhpur.com

13/11/2018 in Energy & Renewable Energy

In today’s world, the rising fuel price and high vehicular pollution seem intractable problems for policymakers. India may be able to heave a sigh of relief as one of its educational institutes has found an alternative natural fuel named as ‘Future Fuel‘, which can be used instead of petrol.

Indian Institute of Technology Jodhpur (IITJhas produced a new kind of fuel, in a natural way by a process exactly opposite to photosynthesis. The chemistry department of the institute has put to use sunlight for this process wherein water is broken into oxygen and hydrogen. The fuel is named as Future Fuel (unofficial) by the IITians.

Click Here for More Information on AapnoJodhpur.com

Bhai Dooj 2018, भाई की लंबी आयु और अच्छे भविष्य की कामना का पर्व – AapnoJodhpur.com

13/11/2018 in Development

Bhai Dooj is a festival celebrated by Hindus on the last day of the five days long Diwali festival. यह पर्व दिवाली के 2 दिन बाद कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। This year, Bhai Dooj 2018 का त्योहार 9 नवंबर को मनाया जाएगा, which is Friday. इस त्योहार में बहनें अपने भाईयों के माथे पर तिलक लगाकर उनकी आरती करके भगवान से उनकी लंबी आयु और अच्छे भविष्य की कामना करती हैं। भाई बहन के पवित्र प्रेम का त्यौहार है भैया दूज का पर्व

Bhai दूज को भ्रातृ द्वितीयाभैया दूज भी कहते हैं। भाई दूज एक प्रमुख हिंदू त्यौहार है जब महिलाएं अपने भाइयों के लिए लंबे और समृद्ध जीवन के लिए देवताओं से प्रार्थना करती हैं। The celebration of this day is similar to the festival of Raksha Bandhan. On this day brothers and sisters get gifts for each other. इस बार भाई दूज का शुभ मुहूर्त दोपहर 1 बजकर 10 मिनट से लेकर 3 बजकर 27 मिनट तक रहने वाला है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Diwali 2018: अंधकार पर प्रकाश की जीत का पर्व दीपावली, लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि – AapnoJodhpur.com

13/11/2018 in Development

दीपावली शब्द का अर्थ है: दीपों की माला या दीपों की अवली (श्रृंखला) | इसे दिवाली भी कहा जाता है | इस वर्ष (Diwali 2018), 07 नवंबर को मनाई जाएगी | यह महागणपति , महालक्ष्मी एवं महाकाली की पौराणिक अथवा तांत्रिक विधि से साधना-उपासना का परम पवित्र पर्व है। इस दिन उद्योग-धंधे के साथ-साथ नवीन कार्य करने एवं पुराने व्यापार में खाता पूजन का विशेष विधान है।

दिवाली हर साल शरद ऋतु के मौसम में भारत भर में मनाया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण हिंदू त्यौहार है। इस त्यौहार का आध्यात्मिक महत्व अंधेरे पर प्रकाश की जीत है। यह हर साल अक्टूबर या नवंबर के महीने में पड़ता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार यह हर वर्ष कार्तिक मास की अमावस्या के दिन मनाया जाता है l यह पांच दिनों का त्यौहार है जो विशाल तैयारी और उत्साह के साथ मनाया जाता है। लोग पहले दिन धनतेरस मनाते हैं, दूसरे दिन नरक चतुर्दसी और दिवाली तीसरे दिन मनाते हैं । गोवर्धन पूजा चौथे दिन मनाते हैं, और त्योहार के पांचवें दिन भाई दूज मनाया जाता है।

Read More on AapnoJodhpur.com

Dhanteras 2018

Dhanteras 2018: पूजा और कथा, धन लाभ के लिए करें ये उपाय, धनतेरस पर क्या खरीदें क्या ना खरीदें? – AapnoJodhpur.com

05/11/2018 in Development

हिंदू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक के महीने के तेरहवें दिन और दिवाली से दो दिन पहले धनतेरस मनाया जाता है। इस साल (Dhanteras 2018) धनतेरस 5 नवंबर 2018 के दिन मनाया जाएगा| धन की देवी के उत्सवदिपावली की शुरुआत धनतेरस से हो जाती है। इस दिन धन के देवता भगवान कुबेर और माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है|  धनतेरस को धन त्रयोदशी व धन्वन्तरी त्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है।

धनतेरस के दिन धन प्राप्ति के उपाय करने से धन के योग बनते हैं। धन प्राप्ति के लिए श्रेष्ठ देवी-देवता माता लक्ष्मी और भगवान कुबेर को माना जाता है। कुबेर देवताओं के कोषाध्यक्ष हैं, कुबेर यदि कृपा दृष्टि बनाएं तो कोई भी व्यक्ति धन की प्राप्ति कर सकता है।

इस दिन माता लक्ष्मी और कुबेर के साथ भगवान धनवंतरी की पूजा भी की जाती है। घर में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहे इसलिए इस दिन इनकी पूजा की जाती है।  इसीलिए धनतेरस के दिन सोने-चांदी और बरतन खरीदना शुभ माना जाता है।

हिंदू इस दिन मृत्यु के देवता भगवान यम की भी पूजा करते हैं ताकि वे अपनी उदारता के लिए प्रार्थना कर सकें और समृद्धि की तलाश कर सकें। धनतरेस के दिन शाम को पूजा के बाद घर के द्वार पर दक्षिण दिशा में एक बड़ा दीपक जलाकर रखा जाता है, उस दीपक का नाता यम देवता है। इससे जीवन से अकाल मृत्यु का योग टल जाता हैं.

Check More Details on AapnoJodhpur.com

Rama Ekadashi 2018

Rama Ekadashi 2018: रमा एकादशी व्रत, पूजन विधि, कथा व महत्‍व – AapnoJodhpur.com

03/11/2018 in Development

कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की एकादशी को रमा एकादशी के नाम से जाना जाता है। यह व्रत भगवान श्री कृष्ण को समर्पित है। रमा एकादशी दिवाली के त्‍यौहार के चार दिन पहले आती है। Rama Ekadashi 2018, 3 नवंबर को है। मान्यता के अनुसार, इस व्रत के प्रभाव से सभी पाप नष्ट हो जाते हैं, यहां तक कि ब्रह्महत्या जैसे महापाप भी दूर होते हैं। सौभाग्यवती स्त्रियों के लिए यह व्रत सुख और सौभाग्यप्रद माना गया है। रमा एकादशी को रम्भा एकादशी भी कहते हैं।

शास्त्रों में एकादशी का बड़ा महत्व है इस दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा कर उन्हें प्रसन्न किया जाता है। दिवाली से पहले कार्त‌िक कृष्‍ण एकादशी का बड़ा महत्व है क्योंकि यह चातुर्मास की अंत‌िम एकदशी है। भगवान व‌िष्‍णु की पत्नी देवी लक्ष्मी ज‌िनका एक नाम रमा भी हैं उन्हें यह एकादशी अधिक प्रिय है, इसल‌िए इस एकादशी का नाम रमा एकादशी है। ऐसी मान्यता है क‌ि इस एकादशी के पुण्य से मनोवांछित फल, सुख ऐश्वर्य को प्राप्त कर मनुष्य उत्तम लोक में स्‍थान प्राप्त करता है।

Click Here for Complete Information on AapnoJodhpur

Aayushman Bharat Yojana

Ayushman Bharat Yojana: कैसे ले प्रधानमंत्री आरोग्य योजना ‘मोदीकेयर’ का लाभ – AapnoJodhpur

31/10/2018 in Healthcare

प्रधानमंत्री मोदी ने गत 23 सितंबर को रांची से Ayushman Bharat Yojana (प्रधानमंत्री आरोग्य योजना) की शुरुआत की। इस योजना के तहत देश के 10 करोड़ परिवारों को पांच लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) मिलेगा। केंद्रीय बजट में इस योजना के पहले साल के लिए दो हजार करोड़ रुपये का शुरुआती आवंटन किया गया था।

क्या हैं यह आयुष्मान भारत योजना ‘Ayushman Bharat Yojana (ABY)’, कैसे इससे आम जनता स्वास्थ्य लाभ ले सकती हैं, क्यों ऐसी  योजना बनाई गई?  यहाँ इस लेख (Article) मे आयुष्मान भारत योजना के बारे में सब कुछ जानिए –

What is “Ayushman Bharat Yojana”?

In India, there are several families which are poor and experience a tough time during the time of ailments. In order to address this issue, the Indian Government has launched a new scheme namely “Ayushman Bharat Yojana”. On the Independence Day of India 2018, Prime Minister Narendra Modi announced the Ayushman Bharat Yojna in his speech. This scheme is launched to aim at the medical services for the deprived families of both rural and urban areas. A digital campaign was also initiated to aware people about the scheme on various social media platforms.

Read more on Ayushman Bharat Yojana on AapnoJodhpur

 

Jodhpur Railway Station

NIFT Students Painted India’s Cleanest- Jodhpur Railway Station In Traditional Themes – AapnoJodhpur.com

28/10/2018 in Development

Jodhpur Railway Station, the Cleanest Railway Station in India as Announced by Railway Ministry is renovated by NIFT (National Institute of Fashion Technology) Jodhpur students with bright and vibrant colours in form of attractive paintings to showcase the traditional Marwadi look.

Under the ‘Joy of Giving Week‘ celebrated at Jodhpur NIFT, some of the students around 40 took the initiative to refine the railway station in an ethnic look with the skill of their art. For this, they have selected five places on the railway station rejuvenating with the attractive paintings.

The team of NIFT students has painted many archaic and breathtaking paintings with their imagination and vibrant colours inside the railway station. The images of this ethnic makeover were shared by Jodhpur Mayor Shri Ghanshyam Ojha.

Click For Complete Information

Karwa Chauth 2018

Karva Chauth 2018: करवा चौथ व्रत का मुहूर्त, पूजन विधि, उद्यापन, कथा व महत्‍व – AapnoJodhpur.com

27/10/2018 in Development

Karva Chauth‘ करवा चौथ विवाहित महिलाओं का प्रमुख व्रत है| मान्‍यता है कि जो भी महिला पूरे विधि-विधान और श्रद्धा-भाव से करवा चौथ का व्रत करती हैं उनकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं| करवाचौथ का त्योहार पति-पत्नी के मजबूत रिश्ते, प्यार और विश्वास का प्रतीक है। कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी जिस रात रहती है उसी दिन करवा चौथ का व्रत किया जाता है। Karva Chauth 2018 का यह व्रत 27 अक्टूबर को किया जाएगा। करवा चौथ का त्‍योहार दीपावली से नौ दिन पहले मनाया जाता है।

करवा चौथ व्रत के दिन महिलाएं दिन भर भूखी-प्‍यासी रहकर अपने पति की लंबी उम्र की कामना करती हैं। यही नहीं कुंवारी लड़कियां भी मनवांछित वर के लिए या होने वाले पति की खातिर निर्जला व्रत रखती हैं। इस दिन पूरे विधि-विधान से माता पार्वती और भगवान गणेश की पूजा-अर्चना करने के बाद करवा चौथ की कथा (Karva Chauth Katha) सुनी जाती है। फिर रात के समय चंद्रमा को अर्घ्‍य देने के बाद ही यह व्रत संपन्‍न होता है।

To read More on KarwaChauth, Click here

Jodhpur RIFF 2018

Jodhpur RIFF 2018: सुरों का सतरंगी कारवां Rajasthan International Folk Festival – AapnoJodhpur

25/10/2018 in Art & Craft, Rajasthani Language, Tourism

Every October, timed to coincide with Sharad Purnima, the year’s brightest full moon, Jodhpur welcomes a swarm of people for the Jodhpur RIFF (Rajasthan International Folk Festival) which features folk artists and others for a series of concerts and events. This year Jodhpur RIFF 2018 started on October 24 morning at Veer Durgadas Smarak Garden at Masuriya Hill, Jodhpur.

This enthusiastic festival will have artists from all around the world. Every year this festival is organised in the city of Jodhpur hence this festival is the gem for the city. The director of Jodhpur RIFF 2018Divya Bhatia told PTI that, “about 40 per cent of their audiences travel from different parts of the country. It’s a 360-degree immersive music experience unlike any other. There is meditative music, soulful music and there is dance music”.

Check AapnoJodhpur for More Information

Sharad Poornima 2018

Sharad Purnima 2018: शरद पूर्णिमा महत्व, चन्द्रमा से होगी अमृत की वर्षा – AapnoJodhpur

24/10/2018 in Development

आश्विन माह के शुक्लपक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहा जाता है। Sharad Purnima 2018, 24 अक्‍टूबर बुधवार को है और यह 23 अक्टूबर रात से ही शुरू हो जाएगी। शरद पूर्णिमा (Sharad Purnima) का हिंदू धर्म में खासा महत्‍व बताया गया है। माना जाता है कि इस रात को चांद से अमृत बरसता है। इसे कोजागर पूर्णिमारास पूर्णिमाकौमुदी व्रत के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन उजले चावल की खीर बनाकर आसमान के नीचे रखने और बाद मे खाने की परंपरा है।

हेमंत ऋतु आज से ही शुरू होती है। कहते हैं इस दिन चंद्रमा की किरणों में अमृत भर जाता है और ये किरणें हमारे लिए बहुत लाभदायक होती हैं। दरअसल पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक मां लक्ष्मी का जन्म इसी दिन हुआ था। साथ ही भगवान कृष्ण ने गोपियों संग वृंदावन के निधिवन में इसी दिन रास रचाया था।

Link to Full Article on ApnoJodhpur

Sharad Poornima 2018

Sharad Purnima 2018: शरद पूर्णिमा महत्व, चन्द्रमा से होगी अमृत की वर्षा – AapnoJodhpur

24/10/2018 in Development

आश्विन माह के शुक्लपक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहा जाता है। Sharad Purnima 2018, 24 अक्‍टूबर बुधवार को है और यह 23 अक्टूबर रात से ही शुरू हो जाएगी। शरद पूर्णिमा (Sharad Purnima) का हिंदू धर्म में खासा महत्‍व बताया गया है। माना जाता है कि इस रात को चांद से अमृत बरसता है। इसे कोजागर पूर्णिमारास पूर्णिमाकौमुदी व्रत के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन उजले चावल की खीर बनाकर आसमान के नीचे रखने और बाद मे खाने की परंपरा है।

हेमंत ऋतु आज से ही शुरू होती है। कहते हैं इस दिन चंद्रमा की किरणों में अमृत भर जाता है और ये किरणें हमारे लिए बहुत लाभदायक होती हैं। दरअसल पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक मां लक्ष्मी का जन्म इसी दिन हुआ था। साथ ही भगवान कृष्ण ने गोपियों संग वृंदावन के निधिवन में इसी दिन रास रचाया था।

Link to Full Article on ApnoJodhpur

Sharad Poornima 2018

Sharad Purnima 2018: शरद पूर्णिमा महत्व, चन्द्रमा से होगी अमृत की वर्षा – AapnoJodhpur

24/10/2018 in Development

आश्विन माह के शुक्लपक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहा जाता है। Sharad Purnima 2018, 24 अक्‍टूबर बुधवार को है और यह 23 अक्टूबर रात से ही शुरू हो जाएगी। शरद पूर्णिमा (Sharad Purnima) का हिंदू धर्म में खासा महत्‍व बताया गया है। माना जाता है कि इस रात को चांद से अमृत बरसता है। इसे कोजागर पूर्णिमारास पूर्णिमाकौमुदी व्रत के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन उजले चावल की खीर बनाकर आसमान के नीचे रखने और बाद मे खाने की परंपरा है।

हेमंत ऋतु आज से ही शुरू होती है। कहते हैं इस दिन चंद्रमा की किरणों में अमृत भर जाता है और ये किरणें हमारे लिए बहुत लाभदायक होती हैं। दरअसल पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक मां लक्ष्मी का जन्म इसी दिन हुआ था। साथ ही भगवान कृष्ण ने गोपियों संग वृंदावन के निधिवन में इसी दिन रास रचाया था।

Link to Full Article on ApnoJodhpur

Sharad Poornima 2018

Sharad Purnima 2018: शरद पूर्णिमा महत्व, चन्द्रमा से होगी अमृत की वर्षा – AapnoJodhpur

24/10/2018 in Development

आश्विन माह के शुक्लपक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहा जाता है। Sharad Purnima 2018, 24 अक्‍टूबर बुधवार को है और यह 23 अक्टूबर रात से ही शुरू हो जाएगी। शरद पूर्णिमा (Sharad Purnima) का हिंदू धर्म में खासा महत्‍व बताया गया है। माना जाता है कि इस रात को चांद से अमृत बरसता है। इसे कोजागर पूर्णिमारास पूर्णिमाकौमुदी व्रत के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन उजले चावल की खीर बनाकर आसमान के नीचे रखने और बाद मे खाने की परंपरा है।

हेमंत ऋतु आज से ही शुरू होती है। कहते हैं इस दिन चंद्रमा की किरणों में अमृत भर जाता है और ये किरणें हमारे लिए बहुत लाभदायक होती हैं। दरअसल पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक मां लक्ष्मी का जन्म इसी दिन हुआ था। साथ ही भगवान कृष्ण ने गोपियों संग वृंदावन के निधिवन में इसी दिन रास रचाया था।

Link to Full Article on ApnoJodhpur

Maa Chandraghanta

तीसरा नवरात्र का महत्‍व- माँ चंद्रघंटा को प्रसन्न करने का मंत्र, पूजा विधि, भोग व आरती – AapnoJodhpur

11/10/2018 in Development

माँ दुर्गा की नौ शक्तियों की तीसरी स्वरूप माँ चंद्रघंटा की नवरात्री के तीसरे दिन अर्चना की जाती है| Maa Chandraghanta is worshipped on the third tithi (day) of Navratri that is on October 11, 2018.  माँ दुर्गा का तीसरा स्वरूप (अवतार) चंद्रघंटा हैं। अपने मस्तक पर घंटे के आकार के अर्धचन्द्र को धारण करने के कारण माँ “चंद्रघंटा” नाम से पुकारी जाती हैं। अपने वाहन सिंह पर सवार माँ चंद्रघंटा का यह स्वरुप युद्ध व दुष्टों का नाश करने के लिए तत्पर रहता है। माँ चंद्रघंटा को स्वर की देवी भी कहा जाता है| She is the married form of Goddess Parvati.

शांति और समृद्धि का प्रतीक मां चंद्रघंटा की तीन आंखें और दस हाथ हैं जो दस प्रकार के हथियार इत्यादि रखते हैं। Goddess Chandraghanta carries Trishul, Gada, Sword and Kamandal in her four left hands and keeps the fifth left hand in Varada Mudra. She carries lotus flower, Arrow, Dhanush and Japa Mala in her four right hands and keeps the fifth right hand in Abhaya Mudra.  वह न्याय स्थापित करती है और चुनौतियों से लड़ने के लिए अपने भक्तों को साहस और ताकत देती है।

माँ चंद्रघंटा को प्रसन्न करने का मंत्र, पूजा विधि, भोग व आरती on AapnoJodhpur

Navratri 2018

Navratri 2018: तिथियां, घट स्थापना की विधि, शुभ मुहूर्त व नवरात्र का महत्व – AapnoJodhpur

11/10/2018 in Development

10 अक्टूबर से शारदीय नवरात्रि (Shardiya Navratri 2018) शुरू हो रहे हैं। Navratri is made up of two words- ‘Nav’ meaning nine and ‘Ratri’ meaning night, and so the word ‘Navratri‘ means nine nights to celebrates the nine avatars of Goddess Durga.

इस साल शरद नवरात्रि 2018 का शुभारंभ चित्रा नक्षत्र में मां जगदम्बे के नाव पर आगमन से शुरू हो रहा है और हाथी पर मां की विदाई के साथ पूरे होंगे। बंगला पंचांग के अनुसार, देवी अश्व यानी घोड़े पर सवार होकर आएंगी और डोली पर विदा होंगी। Devotees across the world celebrate this festival with great enthusiasm. It is believed that during these nine days, Goddess Durga descends on earth to bless her devotees. On the tenth day, devotees celebrate Dusshera or Vijay-Dashmi.

Navratri 2018: तिथियां, घट स्थापना की विधि, शुभ मुहूर्त व नवरात्र का महत्व on AapnoJodhpur

Sarvpitra Amavasya 2018

मोक्षदायिनी सर्वपितृ अमावस्या का महत्व, मिलेगा समस्त पितरों का आशीष – AapnoJodhpur

08/10/2018 in Development

सर्वपितृ अमावस्या के दिन ही सोमवती अमावस्या का महासंयोग बन रहा है यह अत्यंत सौभाग्यशाली संकेत है। 24 सितंबर 2018 से शुरू हुए पितृपक्ष का समापन 8 अक्टूबर 2018 के दिन आश्विन माह की कृष्ण अमावस्या को सर्वपितृ अमावस्या के साथ होगा। हिन्दू शास्त्रों के मुताबिक जो कोई अपने पितर (पितरों) का श्राद्ध पितृपक्ष में ना कर पाया हो या श्राद्ध की तिथि मालूम ना हो, तो वह सर्वपितृ अमावस्या को अपने ज्ञात-अज्ञात सभी पितरों का श्राद्ध कर सकते हैं।

भाद्रपद की शुल्क पक्ष की पूर्णिमा तिथि के दिन पितृ पक्ष यानि श्राद्ध पक्ष शुरू होते हैं। भाद्रपक्ष की शुल्क पक्ष की पूर्णिमा तिथि  से आश्विन कृष्ण पक्ष अमावस्या तक के समय को श्राद्ध कहते हैं, जो श्रद्धा से किया जाए उसे श्राद्ध कहा जाता है। पितृ पक्ष के आखिरी दिन (अमावस्या) का काफी महत्व होता है, क्योंकि इस दिन किया गया श्राद्ध से सर्वपितरों की मुक्ति होती है और श्राद्ध कर्म करने वाले को पुण्य प्राप्त होता है।

Click Here For Complete Information on AapnoJodhpur

Petrol Pum Fuel Price Cut

Centre Cuts Fuel Prices By Rs. 2.50, Ask States Government For Similar Cut – AapnoJodhpur

05/10/2018 in Development

Petrol and diesel prices are at an all-time high in India. After a long rally of fuel prices, Finance Minister Arun Jaitley today on 04 October, announced marginal relief for citizens with a cut in petrol and diesel excise duty and urged the State Government to reduce the VAT on Fuels. A cut of Rs. 1.50 in Excise duty and another Re 1 drop by oil marketing companies, taking the cut in fuel prices to Rs. 2.50.

FM Arun Jaitley appealed to the states to match the centre’s effort by reducing VAT (value-added tax) by Rs. 2.50 so that the total benefit to citizens is at least Rs. 5. Immediate after his appeal, Six BJP-ruled states — Uttar Pradesh, Gujarat, Maharashtra, Chhattisgarh, Assam and Tripura, responded by dropping fuel prices by Rs. 2.50. After the tax cut at central and state level, both petrol and diesel will be cheaper by Rs 5 in these states.

Rajasthan is yet to announce the latest cut on fuel prices. Last month the Rajasthan Government announced a reduction in the VAT on fuel prices by 4 per cent to give relief to the customers. With the latest move, prices of petrol and diesel in the poll-bound state come down by Rs 2.5 a litre in the state.

In Rajasthan, Petrol price revised by 15 and diesel by 20 Paise per Litre on October 04, 2018, Petrol price in Rajasthan is Rs. 84.47 and Diesel is Rs. 77.78 Per Litre including Rajasthan State govt and Central Excise taxes. Jharkhand has reduced diesel prices by Rs. 2.50, but not of petrol. All BJP-ruled states are expected to cut fuel prices sooner as reported in media.

Click here for More Information on AapnoJodhpur

Jodhpur Foods Award 2018

Jodhpur Food Awards 2018: Vote Your Favourite Icons Of Jodhpur’s Food Industry – AapnoJodhpur

29/09/2018 in Development

Yes, we are talking about the first unique award evening in Jodhpur the Jodhpur Food Awards 2018, to recognize and honour all kind of Jodhpur’s Food and Hospitality Industry. Different categories of the awards are planned in Jodhpur Food Awards 2018 i.e JFA’18. The voting line to have a public choice winner is already opened and the event will be organized with all gala and full of enthusiasm on October 05, 2018.

Jodhpur (Blue city) is not only the land of Valour, patriotism, Fort, Heritage look but also famous for its great varieties of Jodhpur cuisines, sweets, Namkeens, and recipes make it impossible for tourists to exclude it from their travelling list. The traditional food of Jodhpur has its own air of mystery and taste. And once you fill your urge of the traditional food, you can look to the various Jodhpur city restaurants to serve your appetite for Rajasthani, Indian, Continental, Italian, Mexican, Asian and Mughal cuisines.

Click Here for More Information on AapnoJodhpur

PM Modi in Jodhpur

PM Modi To Inaugurate Parakram Parv In Jodhpur On 2nd Annv Of Surgical Strike – AapnoJodhpur

28/09/2018 in Administration, Lok Sabha

Prime Minister Narendra Modi will attend the Combined Commanders’ Conference on Friday in the Suncity Jodhpur at the air force station and open an Army exhibition – Parakram Parv, marking the second anniversary of the surgical strike across the LoC, against terror pads in Pakistani territory by Indian forces. After the conference, PM Modi will also pay homage to the martyrs at the Konark War Memorial.

The Army will be holding celebrations of ‘Parakram Parv’ from September 28. Modi will inaugurate the exhibition in Konark Corps at Jodhpur Military Station. The exhibition involves a grand display of Indian Army’s prowess, combat capability and contribution in nation-building. Display of various weapons and equipment, informative briefings and movies on Surgical Strikes will be an added attraction.

The Prime Minister will reach at Jodhpur civil airport Friday morning and inaugurate the exhibition, ‘Parakarm Parv’, at Jodhpur Military Station at 9 am, before participating in the conference at the Jodhpur Air Force Station.

Link to Full Article on AapnoJodhpur

Shraddh

Shraddh 2018 पितृपक्ष में श्राद्ध विधि: पितरों को खुश करने के लिए क्या करें और क्या ना करें ? – AapnoJodhpur

27/09/2018 in Development

पितरो के उद्देश्य से विधि पूर्वक जो कर्म श्रद्धा से किया जाता हैं, उसे श्राद्ध (Shraddh) कहते हैं | This year Shraddh Paksh 2018 will be from September 24 (Monday) till October 8, 2018 (Monday). श्राद्ध का वर्णन मनुस्मृति आदि धर्मशास्त्रों ग्रंथो से प्राप्त किया जा सकता हैं | कर्मपुराण पुराण के अनुसार जो व्यक्ति शान्त मन होकर विधिपूर्वक श्राद्ध करता हैं, वह सभी पापों से रहित होकर मुक्ति को प्राप्त करता हैं, फिर संसार-चक्र में नहीं आता | अतः मनुष्य को पितृगण की संतुष्टि एवं अपने कल्याण के लिए श्राद्ध कर्म तथा दान तर्पण अवश्य करना चाहियें |

पितृपक्ष के साथ पितरो को विशेष सम्बन्ध रहता हैं | भाद्रपद की शुल्क पक्ष की पूर्णिमा तिथि के दिन पितृ पक्ष यानि श्राद्ध पक्ष शुरू होते हैं, जो अमावस्या तक रहता हैं | शास्त्रों में पितृपक्ष में श्राद्ध करने की विशेष महिमा लिखी गयी हैं | जिसके अनुसार पितृपक्ष में श्राद्ध करने से पुत्र, आयु, आरोग्य, अतुल ऐश्वर्य और अभिलाषित वतुओ की प्राप्ति होती हैं|

15 दिन में 16 श्राद्ध होंगे और पितरों को खुश किया जाएगा। ऐसी मान्‍यता है कि इन दिनों में लोगों को भूलकर भी कुछ गलतियां नहीं करनी चाहिएं, वरना खुशियों को ग्रहण लग सकता है। इस दौरान बहुत सावधानियां बरतना आवश्यक है अन्यथा पितर नाराज हो जाते हैं ।श्राद्ध के दिन क्या करें और क्या नहीं, जानिए यहां AapnoJodhpur par

Shraddh Paksha and Vidhi

Shraddh Paksh 2018 की तिथियां व महत्व – पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व – AapnoJodhpur

24/09/2018 in Development

पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व है पितृपक्ष का श्राद्ध। भाद्रपद की शुल्क पक्ष की पूर्णिमा तिथि के दिन पितृ पक्ष यानि श्राद्ध पक्ष शुरू होते हैं। जो श्रद्धा से किया जाए उसे श्राद्ध कहा जाता है। भाद्रपक्ष की शुल्क पक्ष की पूर्णिमा तिथि  से आश्विन कृष्ण पक्ष अमावस्या तक के समय को श्राद्ध कहते हैं। This year Shraddh Paksh 2018 will be from September 24 (Monday) till October 8, 2018 (Monday). ये दिन पितरों को याद करने और उनसे आशीर्वाद लेने का है। उनकी पूजा करने से घर में सुख-शांति बनी रहती है और कभी किसी चीज की कमी नहीं रहती।

धर्म शास्त्र कहते हैं कि पितरों को पिंडदान करने वाला गृहस्थ दीर्घायुयश को प्राप्त करने वाला होता है। पितरों की कृपा से सब प्रकार की समृद्धिआयुविद्यायशबल और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। पितृपक्ष में पितरों को आस रहती है कि हमारे पुत्र-पौत्र पिंड दान करके हमें संतुष्ट कर देंगे।
श्राद्धपक्ष के दौरान मृत्यु प्राप्त व्यक्तिों की मृत्युतिथियों के अनुसार श्राद्ध किया जाता है। श्राद्ध दो प्रकार के होते हैं। पार्वण श्राद्ध और एकोदिष्ट श्राद्ध। आश्विन कृष्ण के पितृपक्ष में किया जानेवाले श्राद्ध को पार्वण श्राद्ध कहा जाता है। पार्वण श्राद्ध अपहारण में मृत्यु तिथि के दिन किया जाता है। साल में मृत्यु तिथि पर मासपक्ष में किए जाने वाले श्राद्ध को एकोदिष्ट श्राद्ध कहते हैं। एकोदिष्ट श्राद्ध हमेशा मध्याह्न में किया जाता है।
Click Here to read Complete Article on AapnoJodhpur
AIIMS-Jodhpur

AIIMS Jodhpur Recruitment 2018: Walk-In Interviews For 90 Senior Resident Posts – AapnoJodhpur

20/09/2018 in Employment

AIIMS Jodhpur has invited online applications for the post of Senior ResidentsAll India Institute of Medical Sciences, Jodhpur Rajasthan has released the notification to fill 90 vacancies for the post of Senior Resident on its official website – aiimsjodhpur.edu.in. Eligible and interested candidates can apply to the post in the prescribed format and attend walk-in-interview on 27 and 28 September 2018.

Only Indian Citizens are eligible to apply for this post. AIIMS Jodhpur is scheduled to organize Walk-in Interviews on September 27 (Thursday) and September 28 (Friday), at 10:00 AM for this recruitment drive.

Click for Complete Details on AapnoJodhpur

Khudabaksh Aka Amitabh Bachchan: Thugs Of Hindostan Will Hit Screens On Nov 8 – AapnoJodhpur

19/09/2018 in Development

Thugs of Hindostan featuring megastar Amitabh Bachchan and Mr Perfectionist of Bollywood Aamir Khan in the lead roles, is certainly one of the most awaited films of 2018 is scheduled for Deepawali release, will hit the theatres on November 8. With the release of the film’s logo and the short clip introducing Amitabh Bachchan’s character Khudabaksh – the commander of Thugs, fans are certainly keen to know more about the film.

On his Twitter handle, Aamir Khan shared, the motion poster of Amitabh Bachchan in a larger than life avatar. With a sword in his hand, an armour on his body, a turban on his head and passion in his eyes, senior Bachchan could not have got a better look than this for his thug avatar.

In March this year, the film climax scenes were also shot at Mehrangarh Fort and other places in Jodhpur. While filming in Jodhpur, doctors were summoned on the sets to check on Amitabh Bachchan because of the acute pain he was experiencing in his shoulders and back. Later the 75-year-old actor was flown to Mumbai, where his actress wife Jaya Bachchan told media persons: “The costumes are very heavy, so, there’s some pain. Otherwise, he is fine,” reported IANS.

Link to Full Article on AapnoJodhpur

Radha Ashtami 2018

Radha Ashtami 2018: राधाष्टमी शुभ मुहूर्त, पूजन व व्रत विधि, महत्व, कथा – AapnoJodhpur

17/09/2018 in Development

Radha Ashtami, also known as Radha Jayanti, is celebrated to observe the birth of Goddess Radha, the consort of Lord Krishna. It is celebrated every year on Ashtami tithi of Shukla Paksha of Bhadrapada month. This year, Radha Ashtami 2018 will be celebrated on September 17. It is the birth anniversary of Goddess Radha. It is celebrated after 15 days of Lord Krishna birth, i.e Janmashtami. Madhyana Kaal is considered the most auspicious time to celebrate Radha Ashtami.

कृष्‍ण जन्‍माष्‍टमी के द‍िन ज‍िस तरह भगवान श्री कृष्‍ण के जन्‍म का जश्‍न मनाया जाता है, ठीक उसी प्रकार राधाष्‍टमी के द‍िन श्री राधाजी के जन्‍मोत्‍सव को भी हर्षोल्‍लास के साथ मनाया जाता है| ऐसा कहा जाता है कि जो राधा अष्टमी का व्रत नहीं रखता, उसे जन्माष्टमी व्रत का फल नहीं मिलता।

Link to Full Article on AapnoJodhpur

Baba Ramdev ji

Baba Ramdev Jayanti ‘बाबा री बीज’ 2018 : रामदेव जी की कथा, पीर बनने का रहस्य – AapnoJodhpur

11/09/2018 in Development

खम्मा खम्मा रुणिचे रा धनिया .. ( Khamma Khamma Runeche Ra Dhaniya.. ), devoted for the Baba Ramdev Ji, is one of famous and popular Bhajan not only in Rajasthan but in other places too. Baba Ramdev Jayanti, the birth tithi of Ramdev Ji, is celebrated every year in India by his devotees. It falls on Shukla Paksha Dooj (the second day) of Bhadrapad month of Hindu calendar and is also famous as ‘बाबा री बीज‘ (‘बाबा री दूज‘). This Year, Baba Ramdev Jayanti 2018 will be celebrated on September 11.

पीरों के पीर रामापीरबाबाओं के बाबा रामदेव बाबा‘ को सभी भक्त ‘बाबा री’ से जयकार करते हैं। बाबा रामदेव (Baba Ramdev) is a Hindu folk deity of Rajasthan, India. He was a fourteenth-century ruler of the place – Pokhran,  जहां भारत ने परमाणु परीक्षण किया था | He was a very hardworking king who dedicated his life to the people of his kingdom. He said to have miraculous Spiritual powers, an incarnation of Lord Krishna, who devoted his life to the upliftment of the downtrodden and poor people of society. He is worshipped today by many social groups and religions of India as their Ishta-deva. Hindus, Muslims, Jains and Sikhs are his followers.

Link to Have Complete Details on AapnoJodhpur

Bachh Baras 2018

Bachh Baras 2018: बछ बारस महत्व, पूजन की सामग्री, पूजा व उद्यापन विधि और कथा – AapnoJodhpur

07/09/2018 in Development

भारतीय धार्मिक शास्त्रों के अनुसार बछ बारस प्रतिवर्ष जन्माष्टमी के चार दिन पश्चात भाद्रपद महीने के कृष्ण पक्ष की द्वादशी के दिन मनाया जाता है| इस दिन गाय और बछड़े की पूजा की जाती है। बछ बारस Bachh Baras को गौवत्स द्वादशी और बच्छ दुआ bach dua भी कहते हैं। बछ यानि बछड़ा, गाय के छोटे बच्चे को कहते है, गोवत्स का मतलब भी गाय का बच्चा ही होता है। इस दिन को मनाने का उद्देश्य गाय व बछड़े का महत्त्व समझाना है। Bach Baras बछबारस का पर्वराजस्थानी महिलाओं में ज्यादा लोकप्रिय है|

इस दिन महिलायें बछ बारस का व्रत रखती है। यह व्रत सुहागन महिलाएं सुपुत्र प्राप्ति और पुत्र की मंगल कामना के लिए व परिवार की खुशहाली के लिए करती है। गाय और बछड़े का पूजन किया जाता है। इस दिन गाय का दूध और दूध से बने पदार्थ जैसे दहीमक्खनघी आदि का उपयोग नहीं किया जाता। इसके अलावा गेहूँ तथा इनसे बने सामान नहीं खाये जाते।

Read More on www.AapnoJodhpur.com

Paryushan Mahaparv

Paryushan Mahaparv: The Festival Of Peace And Soul Purification – AapnoJodhpur

06/09/2018 in Development

Paryushan Mahaparv is the eminent festival celebrated in Jainism. There are two sections in Jainism – Shvetambara and Digambara Jains. Shvetambara Jains section call this festival as Paryushan while the other section Digambara Jains call it as Das Lakshan Parv. For Shvetambara, Paryushan is celebrated in 8 days of duration while for Digambara the Das Lakshan Parv is celebrated 10 days of the festival. पर्युषण पर्व– जप, तप, साधना, आराधना, उपासना, अनुप्रेक्षा आदि अनेक प्रकार के अनुष्ठानों का अवसर है। Jains increase their level of spiritual intensity often using fasting and prayer/meditation.

The word Paryushan is derived from two Sanskrit words that are ‘pari’ means all four sides or to suppress and ‘ushan‘ means to shed all karmas or anger, ego. ‘पर्युषण’ पर्व का शाब्दिक अर्थ है- आत्मा में अवस्थित होना। पर्युषण का एक अर्थ है- कर्मों का नाश करना। कर्मरूपी शत्रुओं का नाश होगा तभी आत्मा अपने स्वरूप में अवस्थित होगी अतः यह पर्युषण पर्व आत्मा का आत्मा में निवास करने की प्रेरणा देता है।

Read More on AapnoJodhpur

Goga Dev ji

Goga Navami – राजस्थान का लोक पर्व, होती है सांपों के देवता ‘गोगा जी’ की पूजा – AapnoJodhpur

04/09/2018 in Development

Goga Navami is a Hindu festival observed on the ‘Navami’ (9th day) during the ‘Krishna Paksha’ (the dark fortnight of the Moon) of the month of  Bhadrapada in the Hindu calendar. Goga Navami 2018 will be celebrated on September 04, 2018. This festival is also popularly known as ‘Guga Naumi’ and is dedicated to worshipping Lord Goga, who is the God of Snake. गोगा नवमी के दिन नागों की पूजा करते हैं मान्यता है कि गोगा देवता की पूजा करने से सांपों से रक्षा होती है.

गोगा देवता जी  की पूजा श्रावण मास की पूर्णिमा यानी रक्षाबंधन से आरंभ हो जाती है, यह पूजा-पाठ नौ दिनों तक यानी नवमी तक चलती है इसलिए इसे गुग्गा नवमी कहा जाता है. In Hindu traditions, Gogaji, also called as ‘Jahar Veer Goga (ज़ाहर वीर गोगा जी) is a popular folk deity of Rajasthan(राजस्थान के लोक देवता) who is worshipped with full devotion, immense fanfare and enthusiasm in the northern states of India, especially Rajasthan, Madhya Pradesh, Chhattisgarh, Uttar Pradesh, Himachal Pradesh, Haryana and Punjab.

Check More details on AapnoJodhpur

Goga Dev ji

Goga Navami – राजस्थान का लोक पर्व, होती है सांपों के देवता ‘गोगा जी’ की पूजा – AapnoJodhpur

04/09/2018 in Development

Goga Navami is a Hindu festival observed on the ‘Navami’ (9th day) during the ‘Krishna Paksha’ (the dark fortnight of the Moon) of the month of  Bhadrapada in the Hindu calendar. Goga Navami 2018 will be celebrated on September 04, 2018. This festival is also popularly known as ‘Guga Naumi’ and is dedicated to worshipping Lord Goga, who is the God of Snake. गोगा नवमी के दिन नागों की पूजा करते हैं मान्यता है कि गोगा देवता की पूजा करने से सांपों से रक्षा होती है.

गोगा देवता जी  की पूजा श्रावण मास की पूर्णिमा यानी रक्षाबंधन से आरंभ हो जाती है, यह पूजा-पाठ नौ दिनों तक यानी नवमी तक चलती है इसलिए इसे गुग्गा नवमी कहा जाता है. In Hindu traditions, Gogaji, also called as ‘Jahar Veer Goga (ज़ाहर वीर गोगा जी) is a popular folk deity of Rajasthan(राजस्थान के लोक देवता) who is worshipped with full devotion, immense fanfare and enthusiasm in the northern states of India, especially Rajasthan, Madhya Pradesh, Chhattisgarh, Uttar Pradesh, Himachal Pradesh, Haryana and Punjab.

Check More details on AapnoJodhpur

Krishna Janmashtami 2018

Krishna Janmashtami 2018: जन्माष्टमी तारीख, व्रत विधि, पूजा मुहूर्त, महत्व और कथा – AapnoJodhpur

03/09/2018 in Development

Krishna Janmashtami, one of the most important festivals of the Hindu religion, is observed on Ashtami of the Bhadrapada ‘Krishna Paksha’ month of the Hindu Calendar. This year Krishna Janmashtami 2018 falls on September 2 and ends on September 3. ऐसी मान्यता है कि भाद्रपद महीने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को, रोहिणी नक्षत्र मेंआधी रात में ठीक 12 बजे भगवान विष्णु के अवतार – भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था. इसलिए इस दिन को कृष्ण के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है|

Lord Krishna, the preserver of Universe is called by 108 different names such as Gopal, Govind, Devakinandan, Mohan, Shyam, Ghanshyam, Hari, Girdhari, Baanke Bihari etc. The most famous name being “Krishna or Kanha” is basically adjectives, which means ‘dark or black or all attractive’.

Click Here for More Information on AapnoJodhpur

Ub Chhath festival

Ub Chath 2018: ऊब छठ व्रत की कथा, पूजा और उद्यापन विधि – AapnoJodhpur

01/09/2018 in Development

ऊब छठ का व्रत और पूजा विवाहित स्त्रियां पति की लंबी आयु के लिए तथा कुंआरी लड़कियां अच्छे पति कामना में करती है। भाद्र पद महीने की कृष्ण पक्ष की छठ (षष्टी तिथि) ऊब छठ होती है। ऊब छठ को चन्दन षष्टी Chandan chath , चन्ना छठ Channa Chath और चाँद छठ Chand Chath के नाम से भी जाना जाता है। Ub Chath 2018 will be celebrated with full tradition and culture on Saturday, Septembert 01, 2018. Usually, Ub Chath comes on sixth day of Raksha Bandhan and two days before Krishna Janmashtami.

भगवान कृष्ण के भ्राता बलराम का जन्म दिन Saturday, Bhadrapad Krishna paksh 6 को ऊब छठ ‘चंदन षष्ठी’ के रूप में धूमधाम से मनाया जाएगा। शाम ढलने के बाद व्रत रखने वाली महिलाए और कुंआरी लड़कियां ने मंदिरों में ठाकुरजी के दर्शन के साथ, परिवार के सुख-समृद्धि की कामना करेंगी । महिलाए रात्रि में चंद्रोदय के बाद, अध्र्य देकर पूजा करने के बाद व्रत का पालना करेंगी।

Read More on ऊब छठ on AapnoJodhpur 

Veer Durgadas Smarak Masuriya Hill Garden

Veer Durgadas Rathore Smarak: A Fitting Memorial Of A True Hero, Savior For Marwar Dynasty – AapnoJodhpur

31/08/2018 in Tourism

A new person in Jodhpur watching over Masuriya hill, a statue of a man riding a horse which is viewable from any area of Jodhpur, a 360-degree panoramic view, will think of – whowhat and why? This is Veer Durgadas Rathore Smarak, a memorial of a true hero of the Marwar region who enlighten the whole world with his bravery, patriotism, valour and sacrifices.

The land of Marwar is rich in culture and tradition and also has people respecting it and still conserving it with them. It has seen numerous heroes rise from its land and inspire and enlighten the whole world with their bravery, valour and sacrifices. The sons of this land have never let the heads of the masses down and have often happily sacrificed themselves for the pride of the kingdom. One such son of this land is Veer Durgadas Rathore of Marwar.

He is credited with having saved and preserved the regime of Rathore Dynasty over Marwar following the aftereffects of the death of Jaswant Singh in December 1678.

In his memory, an equestrian statue has been erected through the efforts of Veer Durgadas Smriti Samiti and it’s Chief Patron Maharaja Gaj Singh Ji with the help of Rajasthan Government, elected persons of Jodhpur, Municipal Corporation, Urban Improvement Trust, Marwar Rajput Sabha and People of Marwar. This Statue unveiled by then Prime Minister Shri Atal Bihari Vajpayee on October 3, 1998.

Read More on AapnoJodhpur

Kajali Teej 2018

Kajari Teej 2018 : Satudi (Badi) Teej महत्व, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त और व्रत कथा – AapnoJodhpur.com

28/08/2018 in Development

Kajari Teej, also known by the name Kajali Teej, Satudi Teej, Badi Teej, Nimadi Teej, is celebrated on the third day of the Krishna Paksha (dark fortnight) during the lunar month of Bhadrapada. According to the Gregorian calendar, the day falls during the months of July or August. Kajari Teej 2018 will be celebrated with full tradition and culture on Wednesday, August 29, 2018. Usually, Kajari Teej comes three days after Raksha Bandhan and five days before Krishna Janmashtami.

Kajari Teej or Badi Teej is a special festival of women. It is celebrated throughout the Northern and the Western parts of India. The celebrations are conducted with much fanfare throughout the states of Rajasthan, Bihar, Madhya Pradesh, Uttar Pradesh, Gujarat and Rajasthan.

Click Here for Satudi (Badi) Teej महत्व, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त और व्रत कथा

Raksha Bandhan 2018

Raksha Bandhan 2018 Shubh Muhurat: A Festival Of Love, Care, Tease, Protection, Joy And Brotherhood – AapnoJodhpur

26/08/2018 in Development

Raksha Bandhan is derived from two loanwords Raksha and Bandhan. Raksha means protection and Bandhan means tying or fastening. Raksha Bandhan is celebrated every year on the last day of the Hindu lunar calendar month of Shravan on full moon day which falls in August. Raksha Bandhan 2018 will be celebrated on 26th August and the Shubh Muhurat (timings) will be from 6:04 A.M. to 5:25 P.M (more details given in below article).

The bond between a brother and a sister is really adorable. It is full of carelovefightstease, joybrotherhoodprotectiveness, all at the same time. From the mischievous fights over chocolate to supporting each other in the times of need, is greatly cherishing. India is a land of various vivid festivals and Raksha Bandhan is one of those many festivals.

Click for Muhurut, Mythological Stories and Other Information

Hindu Festivals in Bhadrapad month

Hindu Festivals In Bhadrapada / Bhado 2018, One Of The Auspicious Month For Devotion – AapnoJodhpur

25/08/2018 in Tourism

The Bhado Mahina, popularly known as the Bhadrapada month mainly devoted to Lord Vishnu is the sixth month in the Hindu Lunar calendar, after Lord Shiva ‘Shravan Mahina‘.  Bhadrapada maas is calculated from the first Purnima or full moon to the next Purnima. Devotees enjoy this month as lots of Hindu Festivals in Bhadrapada month to celebrate. This month is considered as one of the four auspicious months of the Hindu calendar.

हिंदू पंचांग का छठवां माह भाद्रपद (भादौ) कहलाता है। हिन्दू पंचाग का भाद्रपद महीना भादौ, भादवा या भाद्र के नाम से भी जाना जाता है that corresponds to August/September in the Gregorian calendar. In India’s national civil calendar (Shaka calendar), Bhadrapada is the sixth month of the year, beginning on 27 August and ending on 25 September.

Hindu Festivals in Bhadrapada 2018

Railways New Time Table From Aug. 15, 2018, Check Your Train New Timing – AapnoJodhpur.com

23/08/2018 in Administration, Tourism, Transport

Indian Railways will be implementing new timetable for the year 2018 from August 15, 2018. Operating Timings of around 46 trains connected to Jodhpur will be affected in the Railways new time table. From here, 13 trains will be run before the present time.

रेलवे द्वारा वर्ष 2018 के लिए नई समय-सारणी 15 अगस्त 2018 से लागू की जाएगी। उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी तरूण जैन के अनुसार वर्ष 2018 के लिए नई समय-सारणी एक जुलाई 2018 के स्थान पर 15 अगस्त 2018 से प्रभावी होगी। वर्तमान में जारी समय-सारणी 14 अगस्त 2018 तक लागू रहेगी। सभी रेल सेवाएं वर्तमान समय-सारणी तथा ठहराव अनुसार संचालित होगी।

Click Here to Get Complete Details on AapnoJodhpur

JNVU Jodhpur

Students’ Union Elections In Jodhpur Division On Sept 10, Others On Aug 31, 2018 – AapnoJodhpur

22/08/2018 in Administration

The Students’ Union Elections in Jodhpur division would be conducted on September 10, 2018. The Rajasthan State Government declared the schedule of the Students’ Union Elections 2018 on Monday. The elections for the Rajasthan Students’ Union Polls would be held in two phases. Elections in Jodhpur division will be held on September 10, while the rest of Rajasthan will hold the elections on August 31, 2018

Kiran MaheshwariRajasthan State Higher Education Minister announced on Monday that Students’ Union Elections in all 14 Universities of Rajasthan and Colleges affiliated to them will be held in two phases on August 31 and September 10, 2018. Counting of votes will be done on September 11 and results will be announced on the same day.

“Elections in Jodhpur division will be held on September 10, while the rest of the Rajasthan state will hold the elections on August 31”, Maheshwari was quoted as saying by Hindustan Times.

An official was quoted as saying by DNA that, “The decision to hold the elections in Jodhpur division later was taken because the Rajasthan Gaurav Yatra would be underway in the region around during that period.” The Rajasthan Gaurav Yatra is a massive outreach programme by the Chief Minister Smt Vasundhara Raje to outline the work done in her so far tenure ahead of the assembly elections due later this year.

To avert a law and order situation, the decision to conduct the Students’ Union Elections in Jodhpur in the second phase was taken. Raje’s Government’s Rajasthan Gaurav Yatra will be held from August 24 to September 2 in Jodhpur division.

Click Here to Read Complete Article on AapnoJodhpur

Short term courses for success

Short-Term Courses After 12th For A Better Offbeat Career – AapnoJodhpur

21/08/2018 in Education

In today’s world, there is competition everywhere in every field. During 12th, generally, students used to think what to do after 12th – Job or Further Studies? If thinking for Job, then think twice; there is an infinite number of fields and opportunities for an individual to have excel in before entering into a professional career. In this present age, there are innumerable options in form of Short-Term Courses which will help the students to find a better career, a job with ease.

During the high school or 12th standard, students usually find themselves in a dilemma of which course or field to choose from after 12th. They get confused as they don’t have the complete knowledge about the options they have and in most of the cases, their options are limited to a very few numbers of orthodox fields and career paths like an engineer, doctor, chartered accountant etc.

Click Here to read Complete details on Short Term Courses

Achalnath Temple Jodhpur

Sawan Somvar: भगवान शिव और उनका अनोखा घर-संसार, शिवालय का तत्त्व-रहस्य – AapnoJodhpur

20/08/2018 in Development

The last Sawan Somvar Vrat for the year 2018 will be observed on 20th August. During Shravan month, the Shravan Nakshatra is the ruling Star, thus this month has been named as Shravan or commonly called as Shravan (Sawan) Mahina. As such, this entire month is dedicated to Lord Shiva and worshipping him during this month is said to bring most auspicious results and blessings of Lord Shiva.

Many people observe fast for this entire month and make offerings to Lord Shiva everyday. During this period. a large number of people performed various Pujas for Lord Shiva, which gives very auspicious results as per our ancient texts and scripts.

शिवालय का तत्त्व-रहस्य

प्राय: सभी शिवालय (शिव-मन्दिरों) में प्रवेश करते ही सबसे पहले नन्दी के दर्शन होते हैं। उसके बाद कच्छप (कछुआ), गणेशजी, हनुमानजी, जलधारा, नाग आदि सभी शिव-मन्दिरों में विराजित रहते हैं। भगवान के इन प्रतीकों में बड़ा ही सूक्ष्मभाव व गूढ़ ज्ञान छिपा है।

Read Complete Article on AapnoJodhpur

Teej and Rakhi Fiesta 2018

Teej And Rakhi Fiesta 2018 On 25th Aug At Hotel Shri Ram International Jodhpur – AapnoJodhpur

18/08/2018 in Development

Teej and Rakhi Fiesta 2018 is Fashion and Lifestyle Exhibition cum Cultural programme to be organized by Jalsa group at Shri Ram International Hotel Jodhpur on August 25, 2018. The theme of this event to make the women empowerment more strong and help women’s to come out of their houses and do something different from their regular activities.

Sawan (Savan) Mahina, the fifth month of Hindu Calendar is full of festivals. People worship Lord Shiva and Mata Parvati for this whole auspicious month. There is a tradition of fasting every Monday to please Lord Shiva to shower his blessings. This month comes with many auspicious days like Raksha Bandhan (August 26, 2018)Swangauri PoojaHariyali Amavasya (August 11, 2018)Hariyali Teej (August 13, 2018).

Keeping those traditions Teej, Sinjara & Rakhi, as main objective and showcase the women empowerment, Jalsa group is throwing a Sinjara party – Teej and Rakhi Fiesta 2018 at Hotel Shri Ram InternationalRatanada, Jodhpur on August 25, 2018. Enjoy Shopping StallsIndoor PlayzoneDelicious FoodRakhi MakingHenna (Mehndi) ArtArts & CraftsPhoto BoothContests & CompetitionsFun Games & ActivitiesGiveaways & Lucky Draw & much much more…

Read More on AapnoJodhpur

Atal bihari Vajpayee Shraddhanjali

India Lost Its ‘Anmol Ratna’- Atal Bihari Vajpayee, Some Inspiring Facts And Memories – AapnoJodhpur

17/08/2018 in Development

16 August 2018, It seemed just like some other day. Everything was normal this morning of 2018. But then, a big news appeared around 05:45 pm that ATAL BIHARI VAJPAYEE, one of the ace former Prime Minister of India and BJP stalwart has passed away at the age of 93 after being hospitalized for 2 months in AIIMS, New Delhi. He was suffering from various age-related problems. Indeed, its an  “End of an Era” as quoted by our current Prime Minister Narendra Modi.

BJP National President Amit Shah has confirmed that Vajpayee’s mortal remains will be kept at the party headquarters on August 17 from 9 am for people to pay homage. The funeral procession to Delhi’s Vijay Ghat will start at 1:00 pm tomorrow. The last rites will be conducted at 4:00 pm. Vajpayee’s last rites will be conducted near Smriti Sthal on the banks of Yamuna. The memorial is the designated spot for the cremation of Presidents, Vice-Presidents and Prime Ministers.

Link More on AapnoJodhpur

Jodhpur Railway Station Main

Jodhpur Railway Station Emerge As India’s Cleanest Railway Station – AapnoJodhpur

16/08/2018 in Tourism, Transport

Two railway stations Jodhpur and Marwar railway station in Rajasthan were declared as India’s cleanest railway station in the third cleanliness surveyRailway minister Piyush Goyal said North Western Railway topped the list as the cleanest zone. The results of this Cleanliness Survey Report indicates that how Indian Railways is undergoing a massive transformation to serve the nation in a better way.

The third cleanliness survey ranking reports cover a total of 407 railway stations which include 75 stations in A1 and 332 stations in A category.

While Jodhpur railway Station beats other 406 major stations to emerge as India’s cleanest railway stationJodhpur emerges as a topper in the A1 category of railway station followed by Rajasthan capital Jaipur and Tirupati in Andhra Pradesh while Marwar in Rajasthan topped the list among A category railway stations, followed by Phulera in Rajasthan and Warangal in Telangana.

Link to Full Article on AapnoJodhpur

3rd Shravan Somvar With Hariyali Teej 2018, Auspicious Day To Worship Lord Shiva And Mata Parvati – AapnoJodhpur

13/08/2018 in Tourism

Shravan (Sawan), the fifth month of Hindu calendar is one of the auspicious months to worship Lord Shiva. Mondays (Somvar) in Shravan are considered auspicious and are dedicated to Lord Shiva. This year 2018, 3rd Shravan Somvar fall on August 13,  इस दिन बेहद शुभ संयोग बनने जा रहा है as Hariyali Teej is also on the same day.

सावन महीने की शुक्ल पक्ष की तृतीया को प्रेम और सौंदर्य का प्रतीक पर्व हरियाली तीज मनाया जाता है। इस उत्सव को श्रावणी तीज भी कहते हैं। हरियाली तीज पर सुहागन महिलाएं व्रत रखकर और सोलह श्रृंगार कर अपने पति की लंबी आयु के लिए माता पार्वती और भगवान शिवकी पूजा-अर्चना करती हैं। इस पर्व पर महिलाएं में मेंहदी, सुहाग का प्रतीक सिंघारे और झूला झूलने का विशेष महत्व होता है।

भगवान शिव के विभिन्न नाम

शिव‘ शब्द का अर्थ है ‘कल्याण‘। शिव ही शंकर है। ‘शं’ का भी अर्थ है ‘कल्याण’; कर का अर्थ है-करने वाला, अर्थात् कल्याण करने वाला। पुराणों में भगवान शिव के अनेक नाम प्राप्त होते हैं। भगवान शिव के नामों का इतिहास उनकी अनेक क्रीड़ाओं, रूप, गुण, धाम, वाहन, आयुध आदि पर आधारित हैं।

इनमें पांच नाम विशेष रूप से प्रमुख हैं-ईशान, अघोर, तत्पुरुष, वामदेव और सद्योजात। समस्त जगत के स्वामी होने के कारण शिव ईशान‘ तथा निन्दित कर्म करने वालों को शुद्ध करने के कारण अघोर‘ कहलाते हैं। अपनी आत्मा में स्थिति-लाभ करने से वे तत्पुरुष‘ और विकारों को नष्ट करने के कारण वामदेव‘ तथा बालकों के सदृश्य परम स्वच्छ और निर्विकार होने के कारण सद्योजात‘ कहलाते हैं।

Read the Complete Article on AapnoJodhpur

Surpura Dam Jodhpur

Surpura Dam, Water Storage Reservoir And Beautiful Place Near By Jodhpur – AapnoJodhpur

09/08/2018 in Environment, Tourism, Water Harvesting

Surpura Dam is a storage reservoir for supplying the needs of drinking water to Aapno Jodhpur, the second biggest city in Rajasthan by 2029 as the project report claims. It is located near Surpura village, around 18km away from Jodhpur city, which is both district & sub-district headquarter of Surpura village.

The Surpura Dam project was launched in the year 2013 with the then Congress government receiving a loan of Rs. 630 Crore from the French development agency – L’Agence Française de Développement (AFD) for the 750 Crore project. The massive Reorganised Jodhpur Water Supply Project open up several opportunities for the private sector as the project scope involved laying new and refurbishing old water pipelines, setting up new water pumping stations and reservoirs, besides filter plants.

This ambitious project has strengthened water supply in the Sun City, paving the way for adoption of a round-the-clock supply system. This project facilitates the supply of quality drinking water in Jodhpur, situated on the doorstep of the mighty Thar desert, and help in dealing with the perennial problem of shortage of water.

Link to Complete Article on AapnoJodhpur

Friendship Day 2018

Why Friendship Day? Words Of Wisdom Or True Feelings For Celebrations – AapnoJodhpur

05/08/2018 in Tourism

August 5, 2018, is being celebrated as Friendship Day. On the first Sunday of August, people come together to celebrate Friendship day with their BFFs“True Friendship”, “Happy Friendship Day” a term who would have come across millions of times may be on social media or on the graffiti, maybe in the quotes on the cards or gifts. And we think we know What that is, history and significance of this day and Who is that special person!

The first person you would like to talk about crazy things in your life, the person with whom you don’t hesitate to share your favourite things, the person with whom you would like to travel across the world, the person with whom you would have shared your seat in school, the first person who strikes to your mind after reading all this is actually the one! Yes, the bestest friend.

Connect to Complete the Article on AapnoJodhpur

Connect with us for all latest updates also through FacebookLet us know what are your plans for this friendship day. Do comment below.

Monsoon Dhamaka ICAI Jodhpur

ICAI Jodhpur Branch Invites Members For Family Meet And Investor Awareness Event – AapnoJodhpur

03/08/2018 in Education, Tourism

The Institute Of Chartered Accountants of India, ICAI Jodhpur Branch of CIRC Cordially invites its members at “Monsoon Dhamaka” Investor Awareness Program and Family meet event on this Sunday, August 05, 2018 from 04:00 pm onwards at Garh Govind ResortJodhpur. This gets together is planned to refresh all the Members out of there busy Professional Schedule and also to earn 2 CPE hours.

CA Ajay SoniChairman  ICAI Jodhpur Branch on behalf of Jodhpur Branch of CIRC of ICAI while inviting the all CA members and their family for this event told that “Members used to meet each other, but didn’t know each other Family Members. In order to increase brotherhood & to make a healthy atmosphere amongst the families of Family such kind of event is planned. I would like to inform further that we have Pool Party, Housey, Lot of Fun Games for children, Couples & Spouse of CA.”

Link to Complete Article on AapnoJodhpur

RPSC Recruitment 2018 for Assistant Engineer post Aapno Jodhpur

RPSC Recruitment For 916 Assistant Engineer Posts, Apply Online – AapnoJodhpur

07/04/2018 in Employment

Rajasthan Public Service Commission (RPSC) has issued notification and invited application for 916 Assistant Engineer posts under various departments of Government of Rajasthan. Interested and eligible candidates having an Engineering degree or in the final year can apply online for the vacancy through Rajasthan Public Service Commission website – rpsc.rajasthan.gov.in – on or before May 29, 2018 (12 midnight).

Applications have been invited for following departments

  • Public Health Engineering Department
  • Panchayati Raj Vibhag
  • PWD
  • Water Treatment Department
  • Engineering Department
  • Civil Engineering Department

Click Here for Complete Details on AapnoJodhpur

Actor Salman Khan leaves the Jodhpur Central Jail on Friday after the Rajasthan High Court granted him bail in the chinkara poaching case. He spent six nights in jail. Photo by Sanjay Arora *** Local Caption *** Actor Salman Khan leaves the Jodhpur Central Jail on Friday after the Rajasthan High Court granted him bail in the chinkara poaching case. He spent six nights in jail. Photo by Sanjay Arora

Salman Khan Gets 5 Year Jailterm In Blackbuck Poaching Case, Others Accused Let Off – AfterGraduation

05/04/2018 in Administration, Tourism

A Jodhpur court headed by CJM Rural (Chief Judicial Magistrate RuralDev Kumar Khatri convicted actor Salman Khan in the 1998 Blackbuck poaching case and awards five-year simple imprisonment (jail term)and imposes a fine of Rs 10,000. Other co-accused, Bollywood actors Saif Ali KhanTabuNeelam and Sonali Bendre have been acquitted in the blackbuck poaching case due to lack of strong evidence. The trial of the case has been in progress for the last 20 years.

Salman’s lawyers Hastimal Saraswat and others plan to move the Sessions court as well as the Rajasthan High Court for bail. If the bail application is not heard today, the actor will have to spend the night in Central jail today.

Click Here to Read Completely on AapnoJodhpur

Salman Khan in Jodhpur

Salman Khan to be in Jodhpur on April 5, Not for Shooting But For Verdict – AapnoJodhpur

30/03/2018 in Administration, Environment

Dabangg Actor Salman Khan will have to be present in a Jodhpur on April 5, not for shooting an upcoming project (film) but for judgement in the poaching case against him, which involves the killing of two blackbucks. Actors Saif Ali KhanSonali BendreTabu and Neelam, who are charged with being present with Salman Khan in the Gypsy that he allegedly used for the hunt, will also have to appear in court on April 5, 2018.

The decision on sentence or relief for film actor Salman Khan will be pronounced on April 5, in the widely known Kankani Deer Hunting case. For this around 20 years old case, on this Wednesday (March 28, 2018), the court of Jodhpur CJM Rural (Chief Judicial Magistrate RuralDev Kumar Khatri has reserved the judgment for April 5.

Click Here for Complete Details on AapnoJodhpur

Girls in Jodhpuri Saafa

Jodhpuri Saafa, Known For The Culture, Beauty, Respect and Elegance – AapnoJodhpur

30/03/2018 in Art & Craft, Tourism

One of the unique features which adds colour and grace to the Jodhpur city is men wearing turbans that are bright and multihued. Jodhpuri Saafa, known for their beauty, respect and elegance, as its connected with emotions and expressions. These turbans are called by varieties of names depending on cloth colour and design, like multi-coloured Panchrangi Saafa, Chundari, Gajsahi etc.

Rajasthan is a land of varied headgears, which identify the wearer’s ethnicity, economic status and community. Turbans known as ‘Saafa’, ‘Pagadis’ in the local language mostly used in Rajasthan- reflect the caste, culture, profession of the person.

Rajasthan is a rich state of culture, Honour, Valour and heritage. There are many varieties of Turban, Saafa (traditionally called in Aapno Jodhpur), Pagri. This is a traditional headwear for men, is the most popular men’s accessory. In Rajasthan, the turban (Saafa) is a matter of pride and respect for one and all.

Link to Full Article on AapnoJodhpur

Mobile Burst Issue

Now No Mobile Burst Issue, A New Research By IIT Jodhpur On Mobile’s Battery – AapnoJodhpur

24/03/2018 in Development, Energy & Renewable Energy

n the past couple of years, there have been increased reports of popular smartphone models heating issue, catching fire and exploding. Even after a long voice calls or data usage, mobile longer usage, user felt mobile heating issues. Earlier, Samsung recalled 2.5 million Galaxy Note 7 smartphones after reports of the mobile burst issue. Now, these issues would be an history.

Now we can talk more on the mobile phones and we can use it more without any tension of draining and heating of the battery, Indian Institute of Technology Jodhpur has now invented a battery which will not generate much heat and will not burst while using during the long voice communications.

It is a pride moment for IIT Jodhpur, that their research on mobile batteries has come up with success to resolve the issue during the mobile usage.

Link for Complete Article on AapnoJodhpur

Royal Arts of Jodhpur 'Peacock in the Desert'

Exhibition Of Royal Arts Of Jodhpur ‘Peacock In The Desert’ At Houston Museum – AapnoJodhpur.com

11/03/2018 in Art & Craft, Tourism

The Museum of Fine Arts, Houston (MFAH) in partnership with the Mehrangarh Museum Trust of Jodhpur organised the exhibition titled ‘Peacock in the Desert: The Royal Arts of Jodhpur, India’, will be open to the public until August 12 in Houston and then be travelling to Seattle in the fall and then Toronto.

A treasure trove from Jodhpur’s Rathore dynasty in India was put on display at an exhibition centre, United States for the first time, in an epic presentation. At the exhibition, through lavishly made ceremonial objects, finely crafted arms and armour, jewels and intricately carved furnishings and more from Indian courtly life illuminate how the Rathores (of Marwar) acquired and commissioned objects during the cross-cultural exchanges to leverage patronage, diplomacy, trade, matrimonial alliances, and conquest.

In the early 1970s, to protect the treasures his ancestors commissioned from the 17th to the early-20th centuries, His Highness GajSingh Ji II, the current Maharaja of Marwar region (Jodhpur) of Rajasthan, established Mehrangarh Museum Trust.

Begun in 1459 as a military stronghold, the fort and its palaces – ornately carved from red sandstone – house and other treasures are owned and preserved by the Mehrangarh Museum Trust of Jodhpur.

Click Here to Complete Details on AapnoJodhpur

Sheetla Mata Mandir Temple Jodhpur

Why Jodhpur Worship Sheetala Mata On Ashtami Not On Saptami? – AapnoJodhpur

08/03/2018 in Tourism

Sheetala Mata (शीतला), is a folk deity worshipped by many faiths, not in regions of Rajasthan, Gujarat, Uttar Pradesh, West Bengal, Nepal, Bangladesh and Pakistan. As an incarnation of Supreme Goddess Durga, she cures poxes, sores, ghouls, pustules and diseases. Seven days after Holi, on Saptami Sheetala Mata is worshipped all over the country, but in Jodhpur, it is worshipped on Ashtami. It may sound strange to hear the reason, but it is true.

Legend has it that Goddess Shitala wears red attire and rides around on a donkey. She has four arms which Why Jodhpur Worship Sheetala Mata on Ashtami not on Saptami, Sheetla Mata Temple Jodhpurcarry a silver broom, a fan, a bowl and an urn (pot) with Gangajal. She uses these items to rid a house of disease–she sweeps up the germs with her broom, uses the fan to collect them, and dumps them into the bowl. She then sprinkles water from the pot (which is water from the river Ganges) to purify the house. Sheetala’s name means “the cooling one”. Goddess Shitala protects mankind from the deadly diseases and plagues smallpox, chickenpox, measles and skin diseases, which can otherwise have negative effects.

This festival is also known as Basoda Puja. It is celebrated on the Seventh day of the Krishna Paksha during the Hindu month of ‘Chaitra’ after Holi festival. It corresponds to the month of mid-March to April in the Gregorian calendar. For the Year 2018, Sheetala Saptami is on March 08, 2018 and Ashtami is falling on March 09, 2018.

Click to Have Sheetla Mata Katha and Details on AapnoJodhpur

MCA Entrance Exam and eligibility Criteria.png

MCA Entrance Exams And Eligibility Criteria – AfterGraduation

10/12/2016 in Education

MCA (Master of Computer Application) is a three year (6-semester) professional master’s degree in Computer Application awarded in India. The MCA program is designed for students with variety of undergraduate backgrounds, such as commerce,science etc, focusing in the field of IT. Admission in MCA is generally done through various entrance exams which are conducted by different Universities / Technical Institutes in India. All universities have their own eligibility criteria for MCA Entrance Exam.

For more Reading, check this – http://www.aftergraduation.co.in/mca-entrance-exams-eligibility-criteria-universities-technical-institute/

Admission Opens For BITS Pilani Doctoral Programme

07/12/2016 in Education

Admission Opens For BITS Pilani Doctoral Programme – AfterGraduation.co.in

Career options After Engineering

Various Career Options After Graduation

09/11/2016 in Education

This article talks about the  Career Options you can choose from after your B. Tech. /B.E. If you are a current student of B. Tech or have passed out recently, then this article is a MUST read for you.
What have you thought about doing next? M.Tech? OR MBA? OR a job? Even if you have decided on something, it is advisable to explore the other options lying in front of you. It’s a truth never discussed or told. We prefer keeping silent and let things happen only to cry later about the mistakes we made.

For full article, please go through below link-

http://www.aftergraduation.co.in/career-options-after-engineering-be-btech-engineer-opportunities-after-graduation-engineering-higher-studies-job-placement-entrepreneurship-excitement/